पश्चिमी देशों ने सीरिया में हिंसा की निंदा की

इमेज कॉपीरइट Reuters

सीरिया में विपक्षी कार्यकर्ताओं का कहना है कि शुक्रवार को विभिन्न शहरों और कस्बों में पुलिस की गोलबारी में 70 से ज़्यादा प्रदर्शनकारी मारे गए हैं. अमरीका और ब्रिटेन समेत कई देशों ने इसकी निंदा की है.

अमरीका ने सीरिया सरकार से आग्रह किया है कि वो प्रदर्शनकारियों पर हमला न करे. व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जे कारने ने कहा है कि सरकार को लोगों के ख़िलाफ़ हिंसा से बचना चाहिए और उन सुधारों को लागू करना चाहिए जिसका वादा किया गया है.

वहीं ब्रिटेन के विदेश मंत्री विलियम हेग ने सीरिया में प्रदर्शनकारियों की मौत की रिपोर्टों पर चिंता जताते हुए कहा है कि राजनीतिक सुधार तुरंत लागू किए जाने चाहिए.

शुक्रवार को नमाज़ के बाद हज़ारों लोगों ने सड़कों पर निकल कर प्रदर्शन किया था.पिछले पाँच हफ़्तों से लोग सीरिया में राष्ट्रपति बशार अल असद की सरकार के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे हैं. पिछले महीने प्रदर्शन शुरु होने के बाद से शुक्रवार को सबसे ज़्यादा लोग मारे गए हैं.

रॉयटर्स के मुताबिक सीरिया भर में प्रदर्शनकारियों ने सत्ता को उखाड़ फेंकने के नारे लगाए. वीडियो फ़ुटेज में टकराव का वीडियो सामने आया है जिसमें जिंदा कारतूस भी इस्तामाल किए गए हैं.

हालांकि सीरिया की सरकारी समाचार एजेंसी ने कहा है कि शुक्रवार को सीमित प्रदर्शन हुए और पुलिस ने आम लोगों और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प रोकने के लिए केवल आँसू गैस छोड़ी.

संकट

इमेज कॉपीरइट ap

एक दिन पहले ही सीरिया में दशकों पुराना आपातकाल क़ानून हटाया गया है. लेकिन प्रदर्शन करने के लिए अब भी अनुमति की ज़रूरत है.बताया जा रहा है कि कई मौतें डेरा शहर के पास एक गाँव और दमिश्क के पास एक कस्बे में हुईं हैं.

प्रदर्शनों का समन्वय कर रहे लोगों ने प्रदर्शन शुरु होने के बाद से पहली बार एक संयुक्त बयान में लोकतांत्रिक राजनीतिक प्रणाली स्थापित करने की बात उठाई है.

ट्यूनीशिया और मिस्र समेत कई अरब देशों में विरोध के बाद सीरिया में भी प्रदर्शनों का सिलसिला चल रहा है. पिछले महीने के बाद से सीरिया में कम से कम 260 लोग मारे जा चुके हैं.

अंतरराष्ट्रीय समाचार संगठनों ने आमतौर पर सीरिया में आने की अनुमति नहीं दी जा रही जिस वजह से घटनाओं के बारे में सीमित जानकारी मिल पा रही है.11 साल पहले अपने पिता की जगह सत्ता संभालने के बाद राष्ट्रपति असद के लिए ये प्रदर्शन सबसे बड़ा ख़तरा बनकर उभरे हैं.

संबंधित समाचार