दुनिया अब पहले से ज़्यादा सुरक्षित: ओबामा

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अल क़ायदा नेता ओसामा बिन लादेन की मौत को “अमरीका के लिए एक अच्छा दिन” बताते हुए कहा है इस मौत से दुनिया आज एक बेहतर और पहले से ज़्यादा सुरक्षित जगह है.

बिन लादेन पाकिस्तान के ऐबटाबाद शहर में एक अमरीकी विशेष दस्ते की कार्रवाई में मारे गए.

माना जाता है कि उन्होंने ही ग्यारह सितंबर को अमरीका पर हुए हमले और कई अन्य बमबारियों के आदेश दिए थे.

अमरीका की मोस्ट वांटेड लिस्ट में उनका नाम सबसे ऊपर था और पिछले 10 सालों से उनकी तलाश चल रही थी.

अमरीकी अधिकारियों ने डीएनए परीक्षणों के ज़रिए इस बात की पुष्टि कर दी है कि ओसामा बिन लादेन मारे जा चुके हैं.

अमरीकी रक्षा मंत्रालय पेंटागॉन के अधिकारियों ने कहा है कि उन्हें एक अमरीकी नौसैनिक जहाज़ पर इस्लामी रीति रिवाज़ों के अनुसार अंतिम संस्कार के बाद उत्तरी अरब सागर में दफ़ना दिया गया.

पाकिस्तान के ख़ुफ़िया तंत्र पर सवाल

ऐबटाबाद से आंखों देखी

अमरीकी रक्षा अधिकारियों का कहना था, “उनके शव को नहलाया गया और एक सफ़ेद चादर में लपेट दिया गया. एक फ़ौजी अधिकारी ने उनके लिए दुआ पढ़ी जिसे एक स्थानीय व्यक्ति ने अरबी में अनुवाद किया.”

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption कार्रवाई पाकिस्तान के ऐबटाबाद शहर में हुई और पाकिस्तान को इसकी ख़बर शुरू होने के बाद दी गई.

अधिकारियों का कहना था, “दुआ के बाद उनके शव को एक सपाट फ़ट्टे पर रखकर समुद्र में तिरछा करके खिसकाया गया जिससे उनका शव आसानी से पानी में चला गया.”

अभी तक उनके मृत शरीर की तस्वीरें नहीं जारी की गई हैं. जो तस्वीरें सोमवार के दोपहर से टीवी चैनलों पर दिखाई जा रही थीं वो नकली थीं.

तालिबान की धमकी

ओसामा बिन लादेन की मौत के बाद पाकिस्तानी तालिबान ने अमरीका और पाकिस्तान के ख़िलाफ़ हमले का एलान किया है.

अंतरराष्ट्रीय पुलिस इंटरपोल ने और ज़्यादा सतर्कता की ज़रूरत पर बल देते हुए कहा है कि बिन लादेन की मौत अल क़ायदा का खात्मा नहीं है.

अमरीका ने अपने सभी दूतावासों को और चौकस रहने को कहा है और चेतावनी जारी की है कि अल क़ायदा बदले की कार्रवाई कर सकता है.

ज़रदारी को फ़ोन पर ख़बर

अमरीकी ख़ुफ़िया एजेंसी के प्रमुख लियोन पनेटा ने कहा, “अल क़ायदा निश्चित रूप से बिन लादेन की मौत पर बदले की कार्रवाई करने की कोशिश करेगा.”

ब्रिटेन के विदेश मंत्री विलियम हेग ने भी अपने दूतावासों को सुरक्षा बढ़ाने को कहा है.

शर्मिंदगी

ऐबटाबाद शहर के जिस परिसर में बिन लादेन को मारा गया वो पाकिस्तान सैन्य अकादमी से मुश्किल से कुछ सौ मीटर की दूरी पर है.

ऐबटाबाद से बीबीसी संवाददाता अलीम मकबूल का कहना है पाकिस्तान सरकार के लिए ये एक बड़ी शर्मिंदगी है ओसाम बिन लादेन न केवल पाकिस्तान में मारे गए बल्कि मिलिट्री एकेडमी के इतने पास छिपे हुए पाए गए.

पाकिस्तान सरकार को अमरीकी विशेष दस्ते की कार्रवाई की ख़बर उसके शुरू होने के बाद ही दी गई.

लेकिन अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कहा है कि पाकिस्तान के सहयोग से अमरीका को बिन लादेन तक पहुंचने में मदद मिली.

संबंधित समाचार