पाकिस्तान में सैनिक कार्रवाई के दौरान मारे गए ओसामा

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने इसकी पुष्टि की है कि चरमपंथी संगठन अल-क़ायदा के संस्थापक और नेता ओसामा बिन लादेन मारे गए हैं और अमरीका के पास उनका शव है.

लादेन से जुड़ी तस्वीरें

बराक ओबामा ने कहा कि कुछ समय पहले उन्हें ओसामा की तलाश में जुटे अमरीकी सेना के उच्च अधिकारियों से यह सूचना मिली कि ओसामा बिन लादेन अफ़ग़ानिस्तान-पाकिस्तान सीमा के ज़रिए पाकिस्तान में दाखिल हो चुका है.

कौन थे ओसामा बिन लादेन

अमरीका में जश्न का माहौल

ओबामा ने कहा, ''पिछले साल अगस्त में हमें पुख़्ता ख़बर मिली कि ओसामा बिन लादेन पाकिस्तान में एक सुरक्षित जगह छिपा हुआ है. मैंने इस अभियान में जुटे सैन्य दलों को अभियान की इजाज़त दी और उनसे कहा कि ओसामा को जल्द से जल्द पकड़ने की कोशिश की जाए ताकि उन पर क़ानूनी कार्रवाई की जा सके.''

'सुरक्षा हमारी प्राथमिकता'

ओबामा ने बताया कि अभियान दल के सदस्यों ने पाकिस्तानी सरकार की सहायता से ओसामा के ठिकाने को निशाना बनाया और इस अभियान के दौरान ओसामा बिन लादेन की मौत हो गई.

ओबामा ने कहा कि कि यह अमरीका और पाकिस्तान की मिली-जुली सफ़लता है और अमरीकी अधिकारी पाकिस्तानी अधिकारियों के संपर्क में थे.

ओबामा ने कहा कि ओसामा की मौत के साथ चरमपंथी हमलों में मारे गए लोगों को आख़िरकार न्याय मिल गया है.

ओबामा ने कहा, ''अमरीका इस्लाम के ख़िलाफ़ नहीं और ओसामा बिन लादेन कोई इस्लामी नेता नहीं थे. अमरीका युद्ध की क़ीमत जानता है लेकिन अपने लोगों की सुरक्षा हमारी प्राथमिकता है.''

'जो करना चाहा उसे कर दिखाया'

ओबामा ने कहा कि अमरीकी इतिहास इस बात का गवाह है कि अमरीका ने जो भी करना चाहा उसे कर दिखाया है और इसकी वजह है अमरीकी लोगों का एकजुट होकर एक राष्ट्र के रुप में संगठित रहना.

इस खबर के बाद वॉशिंगटन डीसी में व्हाइट हाउस के सामने भारी भीड़ जमा हो गई है और लोग सड़कों पर उतर आए हैं.

इस बीच अमरीका के पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने एक बयान में कहा है, "यह 9/11 हमलों में मारे गए लोगों के साथ उन सभी लोगों के लिए बेहद महत्वपूर्ण क्षण है जो हमारे बच्चों के लिए शांति और आज़ादी भरा भविष्य चाहते हैं."

राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने ओसामा की मौत को अमरीका के लिए ऐतिहासिक और बड़ी सफलता बताया है. ओसामा बिन लादेन का जन्म 1957 में सऊदी अरब के एक संपन्न परिवार में हुआ.

1980 में उन्होंने अफ़गानिस्तान में सोवियत संघ के कब्ज़े के ख़िलाफ़ लड़ने के लिए हथियार उठाए.

माना जाता है कि ओसामा बिन लादेन ने अमरीका में हुए 9/11 हमलों की साज़िश रची. हालांकि अमरीकी सेनाएं 1990 से ओसामा बिन लादेन की तलाश में जुटी थीं.

संबंधित समाचार