'जब गोली लगी तो निहत्थे थे ओसामा'

इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीका ने कहा है कि जब ओसामा बिन लादेन मारे गए तो वो निहत्थे थे लेकिन फिर भी उन्होंने ज़िंदा पकड़े जाने की कोशिशों का प्रतिरोध किया.

व्हाइट हाउस के एक प्रवक्ता जे कार्नी ने इस बात का कोई जवाब नहीं दिया कि जब बिन लादेन निहत्थे थे तो उन्होंने प्रतिरोध किस तरह किया.

एक दिन पहले राष्ट्रपति बराक ओबामा के आतंक विरोधी मामलों के सलाहकार जॉन ब्रेनन ने कहा था कि रविवार सुबह हुए हमले के दौरान संभवत: ओसामा बिन लादेन के पास बंदूक थी.

लेकिन अब व्हाइट हाउस का कहना है कि वो निहत्थे थे.

लादेन के बारे में जानकारी न होने पर शर्मिंदा आईएसआई

Image caption व्हाइट हाउस ने इस बात का कोई जवाब नहीं दिया है कि बिना हथियार के ओसामा ने प्रतिरोध कैसे किया.

ब्रेनन ने ये भी कहा था बिन लादेन की एक पत्नी को तब गोली मार दी गई जब वहां किसी ने उन्हें ढाल के तौर पर इस्तेमाल करने की कोशिश की.

लेकिन कार्नी ने कहा है कि बिन लादेन की पत्नी को तब पांव में गोली मारी गई जब वो एक अमरीकी सैनिक को अपने पति तक पहुंचने से रोक रही थीं.

उन्होंने ये भी कहा है कि एक दूसरी महिला उसी मकान की किसी और मंज़िल पर गोलियों की चपेट में आकर मारी गई.

कार्नी ने बताया कि मकान के अंदर कई लोग थे और वो सब हथियारबंद थे.

इस बीच अमरीकी ख़ुफ़िया एजेंसी इस अभियान के दौरान मिले कंप्यूटर हार्ड ड्राइव, डीवीडी और अन्य दस्तावेज़ों की जांच में लग गई है.

सरकार के आतंक विरोधी सलाहकार जॉन ब्रेनन ने कहा है कि ये सारे सामान अल क़ायदा के दूसरे नंबर के नेता ऐमन अल ज़वाहिरी तक पहुंचाने में सहायक हो सकते हैं.

व्हाइट हाउस अभी भी ओसामा बिन लादेन के शव की तस्वीरों और वीडियो को जारी करने पर विचार कर रहा है.

प्रवक्ता जे कार्नी ने बताया है कि ये तस्वीरें बेहद वीभत्स हैं और उन्हें जारी करना भड़काऊ साबित हो सकता है.

संबंधित समाचार