क्यों सामने आया ओसामा का वीडियो?

ओसामा बिन लादेन इमेज कॉपीरइट AP

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ओसामा बिन लादेन की या उनके शव की तस्वीरें या वीडियो जारी करने से साफ़ इनकार कर दिया था. लेकिन अब पेंटागन यानी अमरीकी रक्षा मंत्रालय ने बिन लादेन के घर से ज़ब्त किए गए पांच वीडियो एक प्रेसवार्ता में जारी किए हैं.

उनकी मुर्दा तस्वीर नहीं जारी की गई लेकिन उनसे संबंधित कुछ तो जनता के सामने लाया गया.

इन वीडियो में बिन लादेन को एक घर में एक टीवी सेट के सामने अलजज़ीरा चैनल पर खुद की खबर देखते हुए दिखाया गया है. ऑडियो को मिटा दिया गया है.

अमरीकी रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार इनमें से एक वीडियो वो पिछले साल अक्तूबर में अमरीका के नाम एक पैग़ाम रिकार्ड करवा रहे हैं. दूसरे वीडियो में उन्हें रिहर्सल करते दिखाया गया है.

अधिकारियों के अनुसार वीडियो जारी करने का मक़सद लोगों को ये बताना था कि अमरीका ने सही मायनों में जिस व्यक्ति को मारा है वो बिन लादेन ही था. लेकिन इन वीडियो को ग़ौर से देखने के बाद सवाल ज्यादा पैदा होते हैं और जवाब कम मिलते है.

वीडियो पर सवाल

इमेज कॉपीरइट Pentagon
Image caption अमरीका के अनुसार बिन लादेन के ये वीडियो ऐबटाबाद के उनके ठिकाने से हासिल हुए हैं.

सब से पहला सवाल ये उठता है कि क्या वीडियो में देखे जाने वाले बिल्कुल सफ़ेद दाढ़ी में सही मायनों में ओसामा हैं? उनके चेहरे को सामने से नहीं दिखाया गया है.

इसलिए यह बताना मुश्किल है कि जिस बूढ़े आदमी को हम वीडियो में देख रहे हैं वो सही में बिन लादेन ही हैं. विशेषज्ञ कहते हैं कि पिछले कुछ सालों में उनकी दाढ़ी सफ़ेद हो चुकी थी और वो अपनी दाढ़ी को काले रंग से रंगा करते थे.

दूसरा सवाल ये उठता है कि ऑडियो को मिटा कर जारी क्यूँ किया गया?

इसका जवाब भी सही से नहीं मिलता है. यहां ये बताना ज़रूरी है कि ये वीडियो अमरीकी अधिकारियों द्वारा एडिट करके और तैयार करके जारी किये गए हैं. हमें नहीं मालूम असली वीडियो के जिन हिस्सों को इन वीडियो में शामिल नहीं किया गया उन में क्या था?

तीसरा सवाल ये खड़ा होता है कि पिछले साल अक्तूबर में ऐसी कौन-सी घटना घटी थी जिसके कारण बिन लादेन को अमरीका के ख़िलाफ़ वीडियो पैग़ाम रिकार्ड करना पड़ा.

अगर रिकॉर्ड किया तो जारी क्यों नहीं किया?

इमेज कॉपीरइट Pentagon
Image caption अहम सवाल ये है कि अगर बिन लादेन ने वीडियो रिकॉर्ड किया तो जारी क्यों नहीं किया.

यहाँ एक और सवाल ये है कि बिन लादेन ने इस वीडियो को जारी क्यूँ नहीं किया? इसका जवाब भी अमरीकी अधिकारी नहीं दे सके. वो कहते हैं कि उन्हें नहीं मालूम कि अक्तूबर में वो अमरीका के ख़िलाफ़ संदेश क्यूँ देना चाहता था.

हमें मालूम है कि 2007 के बाद बिन लादेन अपने सभी पैग़ामों को ऑडियो में रिकार्ड करके जारी किया था. तो पिछले साल बिन लादेन को वीडियो में रिकार्डिंग की क्यूँ ज़रुरत पड़ी?

यहाँ एक और पहलू ग़ौरतलब है. ओसामा को अपनी छवि की बहुत परवाह थी. वो वीडियो में 'कंट्रोल' में दिखना चाहते थे.

लेकिन इनमें से कम से कम एक वीडियो में वो आराम से बैठे तो ज़रूर दिखाई देते हैं लेकिन बहुत साफ़ सुथरे कपड़ों में नहीं नज़र नहीं आते.

दूसरी अहम बात ये कि कैमरामैन उन्हें टीवी देखते हुए क्यूँ उनकी तस्वीर ले रहा है? ये हर उस आदमी के लिए ख़तरनाक हो सकता है जो फ़रार है और अधिकारियों से छिपता फिर रहा है.

संबंधित समाचार