'लीबियाई अधिकारियों पर हत्या के आरोप'

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption कर्नल ग़द्दाफ़ी की गिरफ़्तारी के लिए भी वॉरेंट देने की मांग.

लीबिया ने अंतरराष्ट्रीय अपराध न्यायालय के मुख्य अभियोजक के ज़रिए कर्नल गद्दाफ़ी समेत लीबिया के तीन प्रमुख अधिकारियों की गिरफ़्तारी के लिए वॉरेंट जारी किए जाने की मांग का तिरस्कार करते हुए कहा कि ये अफ़्रीक़ी देशों के नेताओं के ख़िलाफ़ मुक़दमा चलाने की साज़िश है.

लीबिया के उपविदेश मंत्री ख़ालिद काएम का कहना है कि इस मामले में अंतरराष्ट्रीय अपराध न्यायालय का व्यवहार संदेहास्पद है और ये सारा कुछ अफ़्रीक़ी नेताओं के ख़िलाफ़ मुक़दमा चलाने के लिए किया जा रहा है.

लीबिया ने कहा है कि वो अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के फ़ैसले को नज़र अंदाज़ करेगा क्योंकि अमरीका की तरह लीबिया ने अंतरराष्ट्रीय अपराध न्यायालय के क़रारदादों पर दस्तख़त नहीं किए हैं.

इससे पहले अंतरराष्ट्रीय अपराध न्यायालय के मुख्य अभियोजक लुई मोरेनो ओकॉपो ने कहा था कि वह तीन वरिष्ट लीबियाई अधिकारियों के ख़िलाफ़ गिरफ़्तारी वॉरेंट लेने की कोशिश करेंगे.

उन पर मानवता के ख़िलाफ़ अपराध करने के आरोप हैं. अभी तक ओकॉपो ने इन तीन अधिकारियों के नाम नहीं बताए हैं हांलाकि अटकलें लगाई जा रही हैं कि इनमें लीबियाई नेता कर्नल ग़द्दाफ़ी का नाम भी हो सकता है.

गद्दाफ़ी के अलावा लीबिया के ख़ुफ़िया विभाग के प्रमुख अबदुल्लाह सेनुस्सी और गद्दाफ़ी के पुत्र सैफ़ुल इस्लाम के नाम होने की संभावना है.

'युद्द अपराध'

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने ओकॉपो को लीबिया में हो रही कथित ज़्यादतियों की जाँच करने के आदेश दिए थे.

बीबीसी की संयुक्त राष्ट्र संवाददाता बारबारा प्लेट का कहना है कि ओकॉपो को न्यायाधीशों को विश्वास दिलाना होगा कि उनके पास लीबियाई अधिकारियों पर मुक़दमा चलाने के पर्याप्त आधार हैं.

ओकॉपो का कहना है कि उनके पास मानवता के ख़िलाफ़ अपराधों जैसे हत्या और उत्पीड़न के सबूत हैं और प्रत्यक्षदर्शी और इन मामलों की जानकारी रखने वाले लोग इस बारे में गवाही देने के लिए भी तैयार हैं.

ओकॉपो ने अभी इन तीन लोगों के नाम नहीं बताए हैं लेकिन उनका कहना है कि इन्होनें ही इन कथित अपराधों की योजना बनाई थी, इनके लिए धन उपलब्ध कराया था और इनको अंजाम देने के आदेश दिए थे.

ओकॉपो सशस्त्र संघर्ष शुरू होने से पहले, फ़रवरी में सुरक्षा बलों के नागरिकों पर सुनियोजित और व्यापक हमलों की जाँच कर रहे हैं.

लेकिन उनका कहना है कि उनके पास युद्द अपराध से ज़ुड़े मामले की भी जानकारी है.

उन्होंने कहा कि भविष्य में नैटो सेना और विद्रोहियों के ज़रिए भी किए गए हमलों की जांच होगी और मामला दर्ज किया जाएगा.

संबंधित समाचार