आइएमएफ़ के नए प्रमुख को लेकर बहस

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption डॉमिनीक स्ट्रॉस कान के इस्तीफ़े के बाद आइएमएफ़ के प्रमुख का पद रिक्त हुआ है

डॉमिनीक स्ट्रॉस कान के अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के प्रमुख पद से इस्तीफ़ा देने के बाद यूरोपीय नेताओं ने कहा है कि कोष का प्रमुख यूरोपीय होना चाहिए.

जर्मनी की चांसलर एंगेला मरकेल और यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष होज़े मैनुअल बरोसो की टिप्पणी ऐसे समय आई है जब इस बात पर बहस हो रही है कि आइएमएफ़ का अगला प्रमुख विकासोन्मुख देश से होना चाहिए.

मरकेल का कहना है कि यूरो क्षेत्र की आर्थिक समस्याओं को देखते हुए यूरोपीय प्रमुख ही रहना चाहिए.

डॉमिनीक स्ट्रॉस कान एक अमरीकी होटल की कर्मचारी के साथ बलात्कार करने की कोशिश के आरोप में जेल में बंद हैं.

वो इन आरोपों का खंडन करते हैं और उन्होने बृहस्पतिवार को न्यूयॉर्क की अदालत में दोबारा ज़मानत की अर्ज़ी दी.

पहली अर्ज़ी अस्वीकार कर दी गई थी.

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के उपाध्यक्ष जॉन लिप्स्की को अंतरिम प्रमुख बनाया गया है और संस्था ने कहा है कि जल्दी ही वो स्थाई प्रमुख की नियुक्ति की घोषणा करेगी.

स्वाभाविक चयन

विश्लेषकों का कहना है कि आइएमएफ़ के प्रमुख की नियुक्ति को लेकर जो बहस चल रही है वो स्वाभाविक है क्योंकि विकासोन्मुख देशों की बढ़ती शक्ति को देखते हुए उनके प्रतिनिधित्व की मांग अनुचित नहीं है.

लेकिन यूरोप की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था जर्मनी की चांसलर यूरोपीय उम्मीदवार की ही वकालत कर रही हैं.

उन्होने कहा, "मैं समझती हूं कि मौजूदा स्थिति में जब यूरो को लेकर गंभीर समस्याएं चल रही हैं जिन्हे सुलझाने में आइएमएफ़ की महत्वपूर्ण भूमिका है यूरोपीय उम्मीदवार का सामने आना ज़रूरी है".

यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष बरोसो भी यही चाहते हैं.

उनकी एक प्रवक्ता ने कहा, "यूरोपीय संघ को इस कोष का सबसे बड़ा अंशदाता होने के नाते है एक मज़बूत और क़ाबिल उम्मीदवार पर सहमत होना चाहिए जो आइएमएफ़ के सदस्य देशों का समर्थन हासिल कर सके".

दक्षिण अफ़्रीका, ब्राज़ील और मैक्सिको उन विकासोन्मुक देशों में हैं जिनका आग्रह है कि आइएमएफ़ को प्रमुख का पद किसी यूरोपीय के लिए आरक्षित रखने की परम्परा को छोड़ देना चाहिए.

अमरीका के वित्तमंत्री टिमथी गाइटनर ने कहा, "हम एक निष्पक्ष प्रक्रिया देखना चाहते हैं जिससे अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के नए प्रबंध निदेशक का जल्दी चयन हो सके".

चीन की सरकार की एक प्रवक्ता ने कहा कि चुनाव की प्रक्रिया योग्यता, पारदर्शिता और निष्पक्षता पर आधारित होनी चाहिए.

प्रमुख के पद के लिए जिन उम्मीदवारों के नाम आ रहे हैं उनमें भारत के मॉंटेक सिंह अहलुवालिया, मिस्र के मोहम्मद अल-एरियन, मैक्सिको के ऑगस्टिन कार्स्टेंस, दक्षिण अफ़्रीका के ट्रेवर मैनुअल, इसराइल के स्टैन्ली फ़िशर और तुर्की के कमाल दरवेश शामिल हैं.

संबंधित समाचार