इतिहास के पन्नों से

मार्टिन लूथर किंग इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption आज ही के दिन अलाबाम में मार्टिन लूथर किंग के ऊपर हमलों के कारण दंगे शुरू हुए थे

इतिहास में 21 मई का दिन कई कारणों से याद किया जाएगा.

21 मई 1927 को अमरीकी पायलट चार्ल्स लिंडनबर्ग ने पहली बार एक छोटे हवाईजहाज़ से अमरीका और यूरोप की मुख्य भूमियों के बीच उड़ान भरी. स्पिरिट और सेंट लुईस नाम के इस छोटे जहाज़ ने करीब 3600 नौटिकल मील ( 6667 किलोमीटर) लम्बी उड़ान भरी. न्यू यॉर्क से पेरिस तक भरी ये उड़ान उन्होंने 33 .5 घंटों में पूरी की. इस उड़ान की शुरुआत उन्होंने मई 20 को न्यू यॉर्क से की और इसके एक दिन बाद पेरिस में ख़त्म किया.

1961 : काले और श्वेत लोगों के बीच दंगे

इसी रोज़ अलाबामा के मोंटगमरी शहर में काले और श्वेत के बीच में फसाद शुरू हो गए. तनाव तब शुरू हुआ जब काले नस्ल भेद विरोधी नेता डॉ मार्टीन लूथर किंग द्वारा दिए जा रहे एक भाषण के दौरान श्वेत लोगों की भीड़ ने पत्थरबाज़ी की.

इस भीड़ में पुरुषों के अलावा महिलाएं और बच्चे भी शामिल थे.

इस मौके पर भाषण देते हुए मार्टिन लूथर किंग ने अलाबामा में रंग भेद के खिलाफ़ बड़ा आंदोलन चलाने की अपील की. अपने भाषण में किंग ने कहा कि अलाबामा राज्य में सरकार ने " सबसे अमानवीय किस्म का दमन किया है" और इसे ख़त्म करने का वक़्त आ गया है.

Image caption आज ही के दिन राजीव गाँधी की ह्त्या हुई थी

1991 भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी की ह्त्या

आज ही के दिन में भारत के पूर्व प्रधानमंत्री और भारतीय राष्ट्रिय कॉंग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राजीव गांधी के ह्त्या कर दी गई.

देश में आम चुनावों के दौरान राजीव गांधी तमिलनाडु के श्रीपेरुम्बूदूर की ह्त्या कर दी गई. राजीव गाँधी भाषण दे के लौट रहे थे तभी फूलों में छुपे हुए बम के साथ एक आत्मघाती हमलावर ने हमला कर दिया. इस हमले में उनके आलावा 14 लोग और मारे गए थे. इस हमले के लिए श्री लंका के तमिल छापामार संगठन लिबरेशन टाइगर्स ऑफ़ तमिल ईलम (एलटीटीई) को दोषी ठहराया गया.