क़यामत से बचने पर हैरान

हैरल्ड कैंपिंग इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption इवेंजेलिकल ईसाई प्रसारक ने कहा था कि 21 मई क़यामत का दिन है

शनिवार 21 मई को प्रलय आनी थी लेकिन शनिवार आया और निकल गया और कुछ भी नहीं हुआ.

इवेंजेलिकल ईसाई प्रसारक हैरल्ड कैंपिंग ने कहा था कि 'निस्संदेह क़यामत का दिन आ रहा है'.

लेकिन अब उनके अनुयायी इस उलझन में हैं ये भविष्यवाणी ग़लत कैसे साबित हुई.

कुछ लोगों ने हैरानी प्रकट की और कुछ ने कहा कि ये ईश्वर में उनकी आस्था की परीक्षा थी.

लेकिन हैरल्ड कैंपिंग का कहीं पता नहीं है.

उन्होने कहा था कि ईसा मसीह शनिवार को पृथ्वी पर लौटेंगे.

उसके बाद जो उनके सच्चे अनुयायी हैं उन्हे स्वर्ग ले जाया जाएगा.

हैरल्ड कैंपिंग 89 वर्ष के हैं और उन्होने अपने विचारों का दुनिया भर में प्रसार करने के लिए रेडियो प्रसारण और बिलबोर्डों का इस्तेमाल किया था.

उनका कहना था कि बाइबिल में ऐसे संकेत दिए गए हैं कि 21 मई 2011 को एक भयंकर भूकंप आएगा जो दुनिया के विभिन्न हिस्सों में शाम छह बजे शुरु होगा.

इसी से दुनिया के विनाश लीला शुरु होगी और 21 अक्टूबर तक वो सब लोग मारे जाएंगे जो ईसा मसीह में विश्वास नहीं करते.

'कुछ शंका थी'

न्यूयॉर्क की एक यातायात एजेंसी से अवकाश ग्रहण कर चुके रॉबर्ट फ़िट्ज़पैट्रिक ने अपनी जमा पूंजी में से कोई डेढ़ लाख डॉलर इस भविष्यवाणी का प्रचार करने में लगा दिए.

लेकिन जब छह बजे और कुछ भी नहीं हुआ तो वो हतप्रभ रह गए.

उन्होने कहा, "मेरी समझ में नहीं आया कि ऐसा क्यों हुआ. कुछ भी क्यों नहीं हुआ".

"मैं नहीं बता सकता कि मुझे कैसा लग रहा है. ज़ाहिर है मैंने इसे ठीक से नहीं समझा क्योंकि हम अब भी यहीं मौजूद हैं".

कुछ अनुयायियों ने कहा कि उन्हे इस भविष्यवाणी को लेकर शंका थी.

कीथ बोअर ने कहा, "मुझे थोड़ी शंका तो थी लेकिन मैं उसे पीछे धकेल रहा था क्योंकि मैं ईश्वर में विश्वास करता हूं".

कीथ बोअर मैरीलैंड से 4,830 किलोमीटर की यात्रा करके कैलिफ़ोर्निया पहुंचे थे जहां कैंपिंग फ़ैमिली रेडियो स्थित है.

उन्होंने कहा, "मैं स्वर्ग जाने की उम्मीद कर रहा था क्योंकि मैं समझता हूं कि इस पृथ्वी से स्वर्ग बेहतर होगा".

कैंपिंग लापता

अमरीकी प्रसार माध्यमों का कहना है कि जब से भविष्यवाणी ग़लत साबित हुई है हैरल्ड कैंपिंग का कोई अता-पता नहीं है.

कैंपिंग फ़ैमिली रेडियो पर न किसी ईमेल का जवाब मिला और न किसी फ़ोन का.

वॉशिंगटन पोस्ट अख़बार ने ख़बर लगाई कि आत्महत्या रोकने के लिए विशेष टेलिफ़ोन सेवाएं उपलब्ध कराई गईं जिससे प्रलय की भविष्यवाणी ग़लत साबित होने से निराश हुए लोग अवसाद का शिकार न हों.

कैलवरी बाइबिल चर्च नामके एक संगठन ने कैंपिंग के अनुयायियों को ढांढस देने के लिए रविवार को गिरजे में एक विशेष प्रार्थना सभा रखी.

चर्च के एक अधिकारी जेम्स बाएनम ने कहा, "हम यहां इसलिए इकट्ठा हुए हैं क्योंकि हमें कैंपिंग के अनुयायियों की चिंता है".

कुछ ईसाई समूहों ने कैंपिंग के विचारों को ख़ारिज कर दिया था और कुछ उन्हें एक झूठा पैग़ंबर कहते थे.

संबंधित समाचार