ई-कोलाई से संक्रमण और यूरोपीय देशों में फैला

खीरे से फैल रहा है संक्रमण इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption प्रारंभिक रिपोर्टों में कहा गया है कि ई-कोलाई बैक्टीरिया से पैदा हो रहा संक्रमण खीरे से फैल रहा है इकोलाई

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि खीरा खाने से संबंधित ई-कोलाई बैक्टीरिया और उससे पैदा हुए स्वास्थ्य के लिए ख़तरा 'काफ़ी व्यापक और ख़तरनाक़' है.

जर्मनी से ख़बरें आ रही है कि घातक ई-कोलाई बैक्टीरिया के फैलने का कारण खीरा है. लेकिन बीबीसी के जर्मनी संवाददाता स्टीव एवांस का कहना है कि विवाद इस बात पर अब भी है कि विषाक्त भोजन कहां से आया.

ई-कोलाई बैक्टीरिया से संक्रमण और यूरोपीय देशों में फैल रहा है. जर्मनी में 14 लोगों के मारे जाने के बाद स्वीडन में स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा है कि 50 वर्ष से ऊपर की एक महिला की इस कारण से मृत्यु हो गई है.

जर्मनी में सैकड़ों लोगों को अस्पतालों में इलाज हो रहा है. जर्मनी के वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि ई-कोलाई से पैदा हो रही बीमारियों का दुष्प्रभाव आने वाले दिनों में और बुरी तरह फैल सकता है.

ये चेतावनी उत्तरी जर्मनी के वैज्ञानिकों ने दी है जो कि संक्रमण के स्रोत को ढूंढने की कोशिश में हैं.

स्पेन को भारी आर्थिक नुकसान

इस संक्रमण का सबसे बुरा प्रभाव किडनी पर पड़ रहा है. जर्मनी के अधिकारियों का कहना है कि अभी भी ये स्पष्ट नहीं हुआ है कि आख़िर ई-कोलाई के कारण बीमारियों का फ़ैलना कहां से शुरू हुआ.

जर्मनी के अधिकारियों ने इस संक्रमण के लिए स्पेन के खीरों की तरफ़ इशारा किया है लेकिन स्पेन के स्वास्थ मंत्री का कहना है कि इस बात के कोई सबूत नहीं हैं.

ताज़ा ख़बरों के अनुसार लगभग पूरे यूरोप में स्पेन से आने वाले फलों और सब्ज़ियों की ख़रीद बंद हो गई हैं.

स्पेन ने इस तरह की अफ़वाह के ख़िलाफ़ मुआवज़े की मांग की बात कही है.

स्पेन के फल और सब्ज़ी निर्यात करने वाली फ़ेडरेशन के अध्यक्ष ने सरकार से ई-कोलाई से तुरंत निपटने का आग्रह किया है.

हर हफ़्ते स्पेन के निर्यातकों को बीस करोड़ डालर का नुकसान हो रहा है.

रूस, फ़्रांस, आस्ट्रिया ने आयात रोकी

संक्रमण जहां से भी फैला हो, सच ये है कि इसके मामले पूरे यूरोप में मिल रहे हैं. हालांकि ज़्यादातर मामले जर्मनी से या वहां से यात्रा करके लौटे लोगों में ही सामने आ रहे हैं.

जर्मनी के पोर्ट औफ़ हैमबर्ग में अस्पतालों में बिमारों की भीड़ लगी है और अस्पतालों के लिए सबका इलाज करना मुश्किल हो रहा है. इनमें से कुछ लोग गंभीर रूप से बीमार हैं.

एक अधिकारी ने कहा है कि और भी मामले आने की आशंका है.

इस बीच रूस, चेक गणराज्य, फ़्रांस और आस्ट्रिया ने खीरों के आयात पर रोक लगा दी है.