बचपन बचाने के लिए अभियान

इमेज कॉपीरइट
Image caption वयस्कों पर केंद्रित उत्पादों का निशाना बच्चों को बनाए जाने पर आपत्ति

ब्रिटेन की सरकार विज्ञापन, संगीत और परिधान से जुड़े व्यवसायों के वयस्क केंद्रित लटके-झटकों से बच्चों को बचाने के लिए एक विशेष अभियान शुरू करने जा रही है.

सरकार इन उद्योगों के जुड़े लोगों और नियामक संस्थाओं से आग्रह करेगी कि वे यौन चित्रण और कामुक विषयों वाले विज्ञापनों को स्कूलों के आसपास नहीं लगवाएँ.

माना जाता है कि इस बारे में सोमवार को की जाने वाली घोषणा में वयस्कों पर केंद्रित संगीत वीडियो को बच्चों की नज़र से दूर रखने के लिए भी कुछ उपाय सुझाए जाएंगे.

सरकार चाहती है कि व्यवसाय जगत समाज की नज़रों में मर्यादित माने जाने वाले आचरण को अपनाए.

परिधान व्यवसाय से जुड़े लोगों से सरकार की अपेक्षा है कि वे बच्चों को वयस्कों वाली उन ड्रेसों से दूर रखें जो कि कामुकता को बढ़ावा देती हो.

विशेष वेबसाइट

सरकार की योजना एक विशेष वेबसाइट शुरू करने की है जो जिस पर बच्चों के माता-पिता और अभिभावक किसी उत्पाद या उसकी मार्केटिंग के बारे में शिकायत दर्ज करा सकेंगे.

सरकार की योजना का समर्थन करने वाली कंज़र्वेटिव सांसद नैडिन डोरिस सात वर्ष की लड़कियों के लिए पैडेड बिकिनी बेचे जाने का उदाहरण देते हुए कहती हैं, “आपको पता है पैडेड बिकिनी पहनने वाली महिलाएँ ऐसा क्यों करती हैं, उनका एकमात्र उद्देश्य होता है अपना यौनाकर्षण बढ़ाना.”

बच्चों को असमय वयस्कता की ओर धकेलने वाले उत्पादों या विज्ञापनों को रोकने का सरकार का ताज़ा प्रयास मात्र सलाहकारी होगा. लेकिन अगले डेढ़ वर्षों में इसका इच्छित असर नहीं दिखा तो सरकार इस बारे में क़ानून बनाने पर विचार करेगी.

संबंधित समाचार