इतिहास के पन्नों से

इतिहास के पन्नों को पलटे तो पाएँगे कि 10 जून के ही दिन वर्ष 1967 में इसराइल ने छह दिन के युद्ध का अंत किया था. इसी दिन नेटो ने कोसोवो के ऊपर हवाई हमले बंद किए थे.

1967 : इसराइल ने छह दिन के युद्ध का अंत किया

Image caption इस युद्ध में इसरायल ने यहूदीयों के लिए पवित्र माने जाने वाले यरूशलम पर पूरी तरह से कब्ज़ा कर लिया.

10 जून के ही दिन इसराइल ने छह दिन से चल रहे अरब युद्ध पर संयुक्त राष्ट्र की ओर से प्रस्तावित युद्ध विराम को मानते हुए लड़ाई का अंत कर दिया.

पिछले छह दिनों में इसराइल ने अपने मूल क्षेत्रफल से कहीं ज़्यादा भूमि पर क़ब्ज़ा कर लिया. इस युद्ध में इसराइल ने यहूदी, ईसाइयों और मुसलामानों तीनों धर्मों के लिए पवित्र माने जाने वाले यरुशेलम पर पूरी तरह से क़ब्ज़ा कर लिया.

इसराइल के तत्कालीन प्रधानमंत्री लेवी एश्कोल ने मिस्र पर हमला करने और जॉर्डन व सीरिया के साथ युद्ध करने को जायज़ ठहराया. उन्होंने कहा, "इसराइल के अस्तित्त्व पर जन्म से जो ख़तरा मंडरा रहा था उसका निदान हो गया है."

एश्कोल ये भी कहा कि 19 साल में पहली बार यहूदी लोग मुक्त हो कर वेलिंग वॉल पर प्रार्थना कर सकेगें.

1999 : नेटो ने कोसोवो पर हवाई हमले बंद किए

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption स्लोबोदान मिलोसेविच के ऊपर युद्ध अपराधों के मुक़दमे चले

आज ही के दिन नेटो ने कोसोवो पर 11 सप्ताह की बमबारी के बाद सर्ब सैनिकों की वापसी शुरू होते ही बमबारी पर विराम की घोषणा कर दी.

नेटो महासचिव हाविए सोलाना ने घोषणा की कि नेटो हवाई जहाज़ों से हो रही 79 दिन के बमबारी अभियान को विराम दे दिया है.

सर्ब नेता स्लोबोदान मिलोसेविच आख़िरकार एक रात पहले अपने सैनिकों को कोसोवो से वापस बुलाने के लिए तैयार हो गए. इस बमबारी के अंत होने के बाद हजारों नेटो सैनिकों ने पूर्व यूगोस्लाविया के कोसोवो प्रांत में घुसने की तैयारियां शुरू कर दी.

नेटो ने ये बमबारी मार्च 24 को शुरू की थी जब मिलोसेविच ने एक अंतरराष्ट्रीय शांति मसौदे को मान कर कोसोवो से यूगोस्लाविया की फ़ौजों को वापस बुलाने से इनकार कर दिया.

साल 2002 में मिलोसेविच और उनके चार अन्य साथियों पर युद्ध अपराधों के मुक़दमे चले. साल 2006 में मिलोसेविच की मौत हो गई.

संबंधित समाचार