जिस्र पर सेना का कब्ज़ा

इमेज कॉपीरइट AP

सीरिया की सेना ने जिस्र अल शुग़ूर कस्बे पर फिर से नियंत्रण कर लिया है. सरकार विरोधी प्रदर्शनों के बाद वहाँ पिछले हफ़्ते 120 सुरक्षाकर्मी मारे गए थे.

सीरिया सरकार के निमंत्रण पर कस्बे में गए बीबीसी संवाददाता का कहना है कि गलियाँ सूनी पड़ीं हैं और कई घर जले हुए हैं.

बीबीसी संवाददाता ने बताया है कि सेना ने रविवार सुबह-सुबह अभियान शुरु किया. सूत्रों के मुताबिक तीन लोग मारे गए हैं. आसमान में हेलीकॉप्टर गनशिप भी देखे गए. बताया जा रहा है कि कस्बे पर नियंत्रण हासिल करने के लिए सुरक्षाकर्मियों को ज़्यादा विरोध नहीं झेलना पड़ा.

एक वरिष्ठ पश्चिमी कूटनयिक ने दमिश्क में रॉयटर्स को बताया है, आधिकारिक रूप से क्या हो रहा है कहना मुश्किल है. सेना की गोलीबारी, घर नष्ट करने की नीति को देखते हुए जिस्र के ज़्यादातर लोग वहाँ से चले गए थे.

पनाह लेने वालों की संख्या बढ़ी

120 सुरक्षाकर्मियों को आख़िर किसने मारा इसे लेकर तथ्य स्पष्ट नहीं है. सरकार का कहना है कि हथियारबंद आतंकवादी संगठनों ने ये काम किया है जबकि प्रदर्शनकारी कहते हैं कि उनका विरोध शांतिपूर्ण है. उनका कहना है कि सुरक्षाकर्मियों में आपस में ही फूट पड़ गई थी जिस कारण ऐसा हुआ.

इस तरह की अपुष्ट ख़बरें लगातार आ रही हैं कि सुरक्षाकर्मी सेना का साथ छोड़ रहे हैं. अपुष्ट ख़बरों के मुताबिक एक अधिकारी और 50 सुरक्षाकर्मियों ने लोगों पर गोली चलाने के बजाए पाला बदलना ठीक समझा.

सीरियाई टेलीविज़न के अनुसार एक सामूहिक कब्र का पता चला है जिसमें कई सुरक्षाकर्मियों के शव हैं. बीबीसी संवाददाता का कहना है कि उन्हें एक कब्र दिखाई गई जिसमें सात शव थे. सेना ने कहा है कि आने वाले दिनों में वहाँ सैन्य अभियान चलाया जाएगा.

इस बीच सीरिया से तुर्की भाग कर जा रहे लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है.

संयुक्त राष्ट्र ने रविवार को तुर्की में प्रवेश करने वालों की संख्या 5050 बताई थी लेकिन बीबीसी संवाददाताओं का कहना है कि ये संख्या शायद इससे ज़्यादा है. प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि करीब दस हज़ार लोग तुर्की में पनाह लिए हुए हो सकते हैं.

अमरीकी अधिकारियों के मुताबिक सीरियाई सरकार के हमलों से मानवीय संकट पैदा हो गया है. उसने अंतररराष्ट्रीय रेड क्रॉस को सीरिया में पहुँच देने की बात की है.

शनिवार को लोगों ने कहा था कि आस-पास के गाँवों में फसलों को आग लगा दी गई है और घरों को नष्ट कर दिया गया है.

संबंधित समाचार