'रिटायर्ड फ़ौजियों पर थी आईएसआई की नज़र'

भारतीय सेना(फ़ाईल फ़ोटो)
Image caption भारतीय सेना से रिटायर होने वालों पर थी आईएसआई की नज़र.

मुंबई हमलों के अभियुक्त डेविड हेडली ने कहा है कि भारत में चरमपंथी कार्रवाईयों को अंजाम देने के लिए पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई, भारत के रिटायर्ड सैन्य कर्मियों की भर्ती की योजना बना रही थी.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार अमरीका में शिकागो की अदालत में मुंबई हमलों के एक दूसरे अभियुक्त तहव्वुर राणा के ख़िलाफ़ मुक़दमे की सुनवाई के दौरान डेविड हेडली ने अपनी गवाही में ये बातें कहीं.

चरमपंथी संगठन लश्कर-ए-तैबा के सदस्य डेविड हेडली ने कहा कि मुंबई हमलों से लगभग छह महीने पहले आईएसआई के मेजर इक़बाल ने उन्हें मुंबई के एक स्थानीय अख़बार में विज्ञापन देने को कहा था.

डेविड हेडली मेजर इक़बाल के ही निर्देश पर काम करता था और सीधे उन्हें ही रिपोर्ट करता था.

विज्ञापन

हेडली के मुताबिक़ विज्ञापन में यह सूचना देनी थी कि एक रोज़गार एजेंसी को कनाडा में काम करने के लिए आदमी की ज़रूरत है. लेकिन इस विज्ञापन का मुख्य उद्देश्य था किसी तरह पूर्व सैनिकों को इस ओर आकर्षित करना और फिर उन्हें भर्ती करना.

शिकागो अदालत में अपनी गवाही के दौरान हेडली ने बताया कि मेजर इक़बाल ने कहा था कि विज्ञापन में दूसरी नौकरियों के अलावा सुरक्षा कर्मियों की नौकरी का भी ख़ास ज़िक्र होना चाहिए और ये भी लिखा होना चाहिए कि रिटायर्ड सैन्य कर्मियों को नौकरियों में प्राथमिकता दी जाएगी.

अदालत में सरकारी वकील ने जब हेडली से पूछा कि इस विज्ञापन के पीछे क्या उद्देश्य था, इस पर हेडली ने जवाब दिया कि उसे उम्मीद थी कि इससे ज्यादा से ज़्यादा रिटायर्ड सैन्य कर्मी आकर्षित होंगे.

वकील ने जब ज़ोर देकर यह पूछा कि क्या मेजर इक़बाल ने उसे भारतीय सेना के रिटायर्ड लोगों को ख़ास तौर पर भर्ती करने के लिए कहा था, इसके जवाब में हेडली ने कहा कि मेजर इक़बाल ने उसे विज्ञापन देने के लिए 25 हज़ार रुपए दिए थे.

अदालत में गवाही के दौरान हेडली ने इस बात का भी ख़ुलासा किया कि मुंबई में हमले के लिए उसे जिन ख़ास जगहों की रेकी करने के लिए कहा गया था उनमें पहले होटल ओबेरॉय शामिल नहीं था.

हेडली ने आश्चर्यचकित करने वाले ख़ुलासे में बताया कि यहूदियों के खबाद हाउस की विडियो रिकॉर्डिंग करने के बाद उसे उसी इलाक़े में मौजूद एक सिनेमाघर में फ़िल्म देखने जाना था. लेकिन फ़िल्म शुरू होने में लगभग एक घंटा बाक़ी था इसलिए उसने समय बिताने के लिए होटल ओबेरॉय की विडियो रिकॉर्डिंग कर ली.

संबंधित समाचार