'आतंकवादियों के हाथ पड़ सकते हैं परमाणु हथियार'

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption रॉबर्ट गेट्स और एडमिरल माइक मलेन ने पत्रकारों को संबोधित किया

अमरीका के सबसे वरिष्ठ सैन्य अधिकारी एडमिरल माइक मलेन ने चिंता जताई है कि पाकिस्तान के परमाणु हथियार आंतकवादियों के हाथ में पड़ सकते हैं.

उन्होंने कहा, “परमाणु शक्ति वाले देश के साथ हम अपने रिश्ते बिगड़ने नहीं दे सकते. मुझे इस बात की चिंता है कि परमाणु तकनीक आतंकवादियों के हाथ लग सकती है. ये लोग इस तकनीक की फ़िराक में हैं.”

वाशिंगटन में मलेन ने कहा है कि अगर पाकिस्तान के साथ रिश्ता बिखर जाता है तो उस इलाक़े को और ख़तरनाक बनने में ज़्यादा देर नहीं लगेगी.

पाकिस्तान और अमरीका के रिश्ते पिछले कुछ महीनों से तनाव के दौर से गुज़र रहे हैं. ऐबटाबाद में अमरीकी कार्रवाई के बाद तो तनाव और गहरा गया है. रिश्ते सुधारने के लिए एडमिरल ने कई बार इस्लामाबाद के चक्कर लगाए हैं.

वहीं अमरीका के रक्षा मंत्री रॉबर्ट गेट्स ने कहा है कि पाकिस्तान और अमरीका दोनों को एक दूसरे की ज़रूरत है और संवाद के रास्ते खुले रहने चाहिए.

रॉबर्ट गेट्स और माइक मलेन दोनों ने एक संयुक्त पत्रकार वार्ता में कहा कि ओसामा बिन लादेन को लेकर पाकिस्तानी कार्रवाई से वहाँ का नेतृत्व नाराज़ है और उन्हें इस दौर से निकलने के लिए वक़्त देना चाहिए.

रक्षा मंत्री का कहना था, “अफ़ग़ान सीमा पर पाकिस्तान के एक लाख 40 हज़ार सैनिक हैं. पाकिस्तानी सेना की मौजूदगी के कारण आतंकी गुटों में अनिश्चितता का माहौल बनता है. कई गुटों को लगता है कि ओसामा पर हुई कार्रवाई में पाकिस्तान का भी हाथ था. उन्हें लगता है कि उनके साथ भी धोखा हो सकता है.”

'ज़वाहिरी को भी मार डालेंगे'

इससे पहले माइक मलेन ने कहा था अमरीका ओसामा बिन लादेन की तरह अल क़ायदा के नए प्रमुख नियुक्त हुए अयमन अल ज़वाहिरी को भी ढूँढ़ कर मार डालेगा.

एक संवाददाता सम्मेलन में माइक मलेन ने कहा, "अल क़ायदा से अब भी ख़तरा बना हुआ है. जैसा कि हमने लादेन को पकड़ने और मारने, दोनों की कोशिश की और मारने में सफल भी रहे. हम ज़वाहिरी के साथ भी निश्चित रूप से ऐसा ही करेंगे."

मई में अमरीका की विशेष सैनिक टुकड़ी ने पाकिस्तान में कार्रवाई करके अल क़ायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन को मार दिया था.

गुरुवार को अल क़ायदा के जनरल कमान से जुड़ी मानी जाने वाली एक वेबसाइट पर अयमन अल ज़वाहिरी के अल क़ायदा के नए प्रमुख के रूप में नियुक्ति की सूचना दी गई थी.

अल क़ायदा ने अपने ताज़ा बयान में यह प्रतिज्ञा की है कि ज़वाहिरी के नेतृत्व में अमरीका और इसराइल के ख़िलाफ़ उस समय तक जिहाद जारी रहेगा जब तक कि सभी आक्रमण करने वाली सेनाएँ इस्लाम की धरती को नहीं छोड़ देतीं

संबंधित समाचार