मुक़दमे से लादेन का नाम हटा

इमेज कॉपीरइट REUTERS
Image caption लादेन की मौत के बाद ज़वाहिरी को अल-क़ायदा की कमान सौंपी गई है

अमरीका की एक अदालत ने चरमपंथी हमलों से जुड़े एक मुक़दमे से ओसामा बिन लादेन का नाम हटा दिया है. अधिकारियों ने अदालत में इस बात के सबूत पेश किए कि अल-क़ायदा प्रमुख रहे लादेन पाकिस्तान में मई में हुई अमरीकी कार्रवाई में मारे जा चुके हैं.

न्यूयॉर्क की संघीय अदालत में यह मुक़दमा सोमालिया में 1993 में हुए हमलों के सिलसिले में दर्ज किया गया था जिसमें 18 अमरीकी फ़ौजी मारे गए थे.

लादेन पर सोमालिया के हमले की हिमायत करने का आरोप लगाया गया था. इसमें अमरीकी नागरिकों को मारने, अमरीकी नागरिकों के खिलाफ़ महाविनाश के हथियारों के प्रयोग और अमरीकी संपत्ति को तबाह करने की साज़िश रचने के आरोप शामिल थे.

बाद में उसमें तंज़ानिया और कीनिया में अमरीकी दूतावास पर हमलों और यमन में कोल नामक अमरीकी युद्वपोत पर हमले की साज़िश के आरोप भी शामिल कर दिए गए थे. लेकिन इस मुक़दमे में 11 सितंबर 2001 के हमलों से जुड़ा कोई आरोप शामिल नहीं था.

जज लुईस कपलान ने अमरीकी सरकार के वकील द्वारा दायर याचिका पर सहमति जताते हुए ओसामा बिन लादेन के खिलाफ़ मुक़दमा ख़त्म कर दिया कि अब आरोपी मर चुका है.

लादेन की मौत के सबूत

इस मामले में सरकारी वकील की तरफ़ से विस्तार से ऐसे प्रमाण अदालत में पेश किए गए जिससे यह साबित होता है कि ओसामा बिन लादेन एक अमरीकी फ़ौजी ऑपरेशन में मारे जा चुके हैं.

उल्लेखनीय है कि दो मई को अमरीका की विशेष सैनिक टुकड़ी ने पाकिस्तान के एबटाबाद शहर में कार्रवाई करके अल क़ायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन को मार दिया था.

सरकार की ओर से अदालत में पेश किए गए दस्तावेज़ों में ओसामा बिन लादेन की पहचान करने के लिए बड़ी सावधानी से की गई कोशिशों का विस्तार से वर्णन किया गया है.

अदालती दस्तावेज़ों के मुताबिक पाकिस्तान में ओसामा बिन लादेन के कंपाउंड पर हमला किए जाने के बाद उसकी लाश से डीएनए नमूने लिए गए और उसे अफ़गानिस्तान में बगराम फौजी अड्डे ले जाया गया जहां सीआईए के एजेंटों ने उसकी जांच की. लादेन के डीएनए की पहले से ही मौजूद उनके कई परिवारजनों के डीएनए नमूनो से मिलाया गया.

दस्तावेज़ में कहा गया,“डीएनए जांच से साबित हो गया कि जो सैंपल हमले में मारे गए व्यक्ति का था वह ओसामा बिन लादेन के परिवार वालों से ही मेल खाता था. और इसमें ग़लती होने की गुंजाईश न के बराबर है.”

इसके अलावा दस्तावेज़ के मुताबिक सीआईए ने आधुनिक तकनीक का प्रयोग कर ओसामा बिन लादेन की पुरानी फ़ोटो से भी उस लाश के चित्रों को मिलाया जिससे साबित हो गया कि जो व्यक्ति पाकिस्तान में अमरीकी हमले में मारा गया था वह ओसामा बिन लादेन ही था.

अदालत ने जिस मुक़दमे से बिन लादेन का नाम हटाया है उसमें अभी अयमन अल ज़वाहिरी का नाम शामिल है जिसने अल-क़ायदा के नए प्रमुख के रूप में कमान संभाली है.

संबंधित समाचार