यूरोपीय संघ के प्रतिबंधों की निंदा

इमेज कॉपीरइट
Image caption संवाददाता सम्मेलन के दौरान सीरियाई विदेश मंत्री ग़ुस्से में दिखे

सीरियाई विदेश मंत्री वालिद मुअल्लिम ने सीरिया पर यूरोपीय संघ के नए प्रतिबंधों की कड़ी आलोचना की है.

उल्लेखनीय है कि यूरोपीय संघ ने सेना से जुड़े चार संगठनों और सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों पर अत्यातार के लिए कथित रूप से ज़िम्मेवार सात सीरियाई अधिकारियों के ख़िलाफ़ यात्रा प्रतिबंधों की घोषणा की है.

इससे पहले 23 मई को यूरोपीय संघ ने राष्ट्रपति बशर अल-असद के ख़िलाफ़ प्रतिबंधों की घोषणा की थी.

यूरोपीय देशों पर राष्ट्रपति असद की सुधारों की घोषणा को नज़रअंदाज़ करने का आरोप लगाते हुए मुअल्लिम ने कहा कि अकेले यूरोप ही दुनिया नहीं है, और नए प्रतिबंधों के मद्देनज़र सीरिया पूरब और दक्षिण के देशों से संबंधों को प्रगाढ़ करेगा.

उन्होंने कहा कि यूरोपीय देशों का व्यवहार नहीं बदला तो वो दिन दूर नहीं जब लोग यूरोप को भूल जाएंगे.

आक्रामक रुख़

मुअल्लिम के अनुसार यूरोपीय देश सीरिया में संघर्ष और अशांति देखना चाहते हैं, लेकिन सीरिया विदेशी ताक़तों की माँगों को बिल्कुल ही नहीं मानेगा.

याद रहे कि सोमवार को राष्ट्रपति असद ने भी अपने भाषण में आरोप लगाया था कि बाहर के लोग सीरिया के ख़िलाफ़ षड़यंत्र कर रहे हैं.

इसलिए सीरियाई विदेश मंत्री का ताज़ा बयान ये दर्शाता है कि देश में तीन महीनों से जारी विरोध प्रदर्शनों के बाद सरकार आक्रामक मुद्रा में आ गई है.

यहाँ उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों सीरिया में राष्ट्रपति असद के समर्थन में भी प्रदर्शन हुए हैं, लेकिन माना जाता है कि इन प्रदर्शनों के पीछे सरकार का हाथ था.

संबंधित समाचार