बंद होगा न्यूज़ ऑफ द वर्ल्ड

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption रविवार को आने वाला न्यूज़ ऑफ द वर्ल्ड ब्रिटेन मे सबसे अधिक बिकने वाला अख़बार था.

ब्रिटेन के जाने माने अख़बार न्यूज़ ऑफ द वर्ल्ड को टेलीफोन हैकिंग विवाद के बीच बंद करने की घोषणा कर दी गई है.

न्यूज़ इंटरनेशनल के चेयरमैन जेम्स मर्डोक ने बताया कि इस रविवार को न्यूज़ ऑफ द वर्ल्ड का आखिरी अंक आएगा.

पिछले कुछ दिनों में अख़बार का नाम फोन हैकिंग से जुड़ा था. खबरों के अनुसार अख़बार ने मिली डाउलर नाम की एक लड़की का फोन उसकी हत्या के बाद हैक करवाया था.

इतना ही नहीं अख़बार ने उन परिवारों के भी फोन हैक करवाए थे जिनके रिश्तेदार सात जुलाई को लंदन पर हुए हमलों में मारे गए थे.

मर्डोक ने कहा कि आखिर अंक से होने वाली आय को भलाई के कार्यों में लगाया जाएगा.

न्यूज़ ऑफ द वर्ल्ड ब्रिटेन के पुराने अख़बारों में से है. पिछले 168 सालों से छप रहा यह अख़बार ब्रिटेन में सबसे अधिक बिकता है और सेलिब्रिटी से जुड़ी बड़ी ख़बरों के लिए जाना जाता था.

अख़बार हर रविवार को आता था. इस रविवार को आने वाले आखिरी अंक में कोई विज्ञापन नहीं होगा और विज्ञापन के स्थान पर चैरिटी संस्थानों को दिए जाएंगे.

न्यूज़ इंटरनेशनल ने इन अफ़वाहों पर कोई टिप्पणी नहीं की है कि अब सन अख़बार हफ्ते में सातों दिन आएगा. असल में सन अख़बार हफ्ते में छह दिन आता था और रविवार को यही अख़बार न्यूज़ ऑफ द वर्ल्ड के नाम से आता था जिसकी अपनी एक अलग पहचान थी.

न्यूज़ इंटरनेशनल की प्रवक्ता का कहना था कि अब सन अख़बार के साथ क्या होता है यह भविष्य की बात है.

प्रवक्ता ने इस पर भी टिप्पणी नहीं की कि क्या न्यूज़ ऑफ द वर्ल्ड के लिए काम करने वाले 200 लोग बेरोज़गार हो जाएंगे. उनका कहना था कि इन लोगों को कंपनी में अन्य नौकरियों के लिए आवेदन करने को कहा जाएगा.

न्यूज़ ऑफ द वर्ल्ड के राजनीतिक संपादक डेविड वुडिंग का कहना था कि ये एक कमाल का अख़बार था. वुडिंग ने सिर्फ़ 18 महीने पहले राजनीतिक संपादक का कार्यभार सँभाला था.

उनका कहना था, ‘‘ अख़बार ने सारे बुरे लोगों को निकाल दिया था.कोलिन माइलर नए संपादक आए थे. उनके नीचे के पद पर भी नई नियुक्ति थी. इन लोगों का पूर्व में जो हुआ उससे कोई लेना देना नहीं है. सब लोग प्रतिभावान हैं. प्रोफेशनल हैं और अच्छा अख़बार निकाल रहे थे हम लोग.’’

उनका कहना था कि अख़ाबर के कर्मचारी उस चीज़ का ख़ामियाज़ा भुगत रहे हैं जो छह साल पहले हुआ.

मर्डोक ने कर्मचारियों के लिए जारी बयान में कहा है कि न्यूज़ ऑफ द वर्ल्ड ने जो अच्छा काम किया है वो उसके ग़लत व्यवहार से धुल गया है. उनका कहना था, ‘‘जो आरोप अख़बार पर लगे हैं अगर वो सही हैं तो ये अमानवीय है और इसकी हमारी कंपनी में कोई जगह नहीं है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘न्यूज़ ऑफ द वर्ल्ड का काम दूसरों को अपनी ज़िम्मेदारी समझाना था लेकिन वो खुद ये काम नहीं कर सका.’’

मर्डोक का कहना था कि कुछ ग़लत काम करने वालों ने एक अच्छे न्यूज़रुम को बर्बाद कर दिया.

उन्होंने बताया कि इन दो मामलों में जो पुलिस जांच चल रही है उससे कंपनी पूरा सहयोग कर रही है और दोषियों को सज़ा दिलवाने से भी पीछे नहीं हटेगी.

इससे पहले अप्रैल में न्यूज़ ऑफ द वर्ल्ड ने माना था कि उन्होंने कहानियों के लिए कई जाने माने लोगों के वॉयसमले संदेशों को इंटरसेप्ट किया था.

संबंधित समाचार