आयकर आयुक्त घूस लेते गिरफ़्तार

आयकर
Image caption आयकर विभाग के कई बड़े अफ़सर पहले भी आरोपों के घेरे में आ चुके हैं.

केंद्रीय जांच ब्यूरो यानी सीबीआई ने शुक्रवार देर रात मुंबई में एक वरिष्ठ आयकर अधिकारी और उनके सहयोगी को रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ़्तार किया है.

इन दोनों व्यक्तियों पर एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर से सरकारी काम करने के बदले 2.20 लाख रूपये रिश्वत लेने का आरोप है.

अभियुक्त आर पी मीणा मुंबई में आयकर आयुक्त ( अपील्स) का पदभार संभाल रहे थे जबकि उनके सहयोगी यू पी पाई पेशेवर चार्टर्ड एकाउन्टेंट हैं.

सीबीआई के संयुक्त सचिव ऋषिराज सिंह ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि इन दोनों व्यक्तियों को शुक्रवार देर रात एक निजी कंपनी में काम करने वाले शिकायतकर्ता से रिश्वत मांगने और लेने के आरोप में गिरफ़्तार किया गया.

रंगे हाथों गिरफ़्तारी

सीबीआई के मुताबिक़ आरोपियों ने साल 2006-07 के सालाना आयकर खातों की जांच रिपोर्ट बंद करने के एवज़ में इस रिश्वत की मांग की थी.

जांच एजेंसी के अनुसार यू पी पाई को आयकर आयुक्त की तरफ़ से रिश्वत की रक़म लेते हुए रंगे हाथों गिरफ़्तार किया गया.

शिकायतकर्ता इस रक़म को लेकर दक्षिणी मुंबई स्थित छत्रपति शिवाजी रेलवे स्टेशन के पास शिवाला रेस्टोरेंट पहुंचे थे और वहीँ से पाई की गिरफ़्तारी हुई.

पाई से हुई पूछताछ में इस बात का पता चला कि वे आयकर आयुक्त आर पी मीणा के लिए ये काम कर रहे थे.

जानकारी मिलने के बाद सीबीआई अधिकारीयों ने मुंबई के नेपियन सी रोड इलाके में स्थित आर पी मीणाके निवास पर पहुँच कर उन्हें भी गिरफ़्तार कर लिया.

पीड़ित व्यक्ति ने रिश्वत की मांग होने के बाद सीबीआई के पास शिकायत दर्ज कराई थी जिसके बाद सीबीआई ने योजना बनाकर इन दोनों व्यक्तियों को गिरफ़्तार किया.

संबंधित समाचार