इतिहास के पन्नों से

अगर इतिहास के पन्नों पर नज़र डालें तो आज के दिन यानि 13 जुलाई को मोरक्को में तख़्तापलट की कोशिश के लिए सेना के कुछ बड़े अधिकारियों को मौत की सज़ा मिली थी. मैंचेस्टर में ओलंपिक आयोजित किए जाने के लिए हरी झंडी मिली थी.

1971: मोरक्को के बाग़ी नेताओं को मौत की सज़ा

Image caption बग़ावत में मारे गए लोगों को राजकीय सम्मान के साथ दफ़नाया गया, बाग़ियों को फ़ायरिंग सक्वाड की गोलियां मिलीं.

मोरक्को में तख़्तापलट करने के लिए फ़ौज के 10 अधिकारियों को मौत की सज़ा दी गई थी. हमले के ठीक 72 घंटे के भीतर ही फौज के चार जनरल, पाँच कर्नल और एक मेजर को बिना किसी मुक़दमे या कोर्ट मार्शल के मौत की सज़ा सुनाई गई थी. उन्हें एक फ़ायरिंग स्कवॉड के सामने खड़ा कर एक के बाद एक गोली मारी गई थी.

मुख्य रूप से सेना के एक ट्रेनिंग सेंटर से तालुक़्क रखने वाले क़रीब 250 बाग़ियों ने शिखारत महल पर ठीक उसी वक़्त हमला किया जब बादशाह हसन (द्वितीय) अपना 42वां जन्मदिन मना रहे थे. वो शनिवार का दिन था. महल से 10 मील दूर स्थित रबात रेडियो, गृह मंत्रालय और सेना मुख्यालय पर भी उसी समय हमला किया गया था.

बागि़यों ने बादशाह को मारकर सत्ता पर क़ब्ज़ा कर लेने का दावा किया था लेकिन मोरक्को की समाचार एजेंसी ने बाद में ख़बर दी कि बादशाह सुरक्षित हैं जबकि उनकी वफ़ादार सेना ने सरकारी भवनों में आवाजाही बंद कर दी है और वो रबात की सड़कों पर टैंको के साथ घूम रही है.

इस घटना मे बेल्जियम के राजदूत समेत 92 लोग मारे गए थे, जबकि 133 घायल हुए थे.

1993: मैंचेस्टर ओलंपिक्स को हरी झंडी

Image caption मैंचेस्टर ओलंपिक का आधिकारिक लोगो.

साल 2000 ओलंपिक खेलों के लिए कोशिश कर रहे ब्रिटिश अधिकारियों से कहा गया कि खेल आयोजन का ज़िम्मा उन्हें दिए जाने की संभावना "बहुत, बहुत अधिक है."

अधिकारियों ने ओलंपिक एसोशियेशन के अध्यक्ष युआन अंटोनियो समरंच के सामने कई प्रस्तुतियां की थीं.

समरंच ने कहा कि जहां भी बारिश होती है वो देश बहुत भाग्यशाली है.

आयोजन टीम के मुखिया बॉब स्काट ने कहा कि उनकी टीम की कोशिशें कामयाब हुईं.

समरंच ने दूसरे दिन ब्रितानी प्रधानमंत्री से मुलाक़ात की थी.

लेकिन जब सितंबर में उसपर आख़िरी फैसला लिया गया तो खेल का आयोजन आस्ट्रेलिया के सिडनी शहर के पक्ष मे गया.

साल 1998 में इस तरह की ख़बरें आईं कि सिडनी आयोजन के लिए ओलंपिक समीति के अधिकारियों को रिश्वत दी गई थी लेकिन बाद में हुई एक जांच में पाया गया कि ये भ्रष्ट्राचार का मामला नहीं था हालांकि कुछ नियमों की अनदेखी की गई थी.

अगले दो ओलंपिक खेल एथेंस और बीजिंग में आयोजित हुए.

साल 2012 के खेल ब्रिटेन के लंदन में आयोजित होंगे.

संबंधित समाचार