बीबीसी रिपोर्टर उस्मोनोव रिहा

उरुनबॉय उस्मोनोव
Image caption उरुनबॉय उस्मोनोव को एक निर्भीक पत्रकार के तौर पर देखा जाता है

ताजिकिस्तान में गिरफ़्तार बीबीसी के उज़्बेक संवाददाता उरुनबॉय उस्मोनोव को ज़मानत पर रिहा कर दिया गया है.

उस्मोनोव को पिछले महीने गिरफ़्तार किया गया था. उन पर आरोप लगाया गया है कि उनके संबंध मध्य एशिया में सक्रिय अवैध इस्लामी गुट हिज़्बउत तहरीर से हैं.

ताजिकिस्तान के प्रोसक्यूटर जनरल शेरखों सलीमजादा का कहना है कि 59 वर्षीय उस्मोनोव पर प्रतिबंधी इस्लामी संगठन हिज़्बउत तहरीर से संबंध के आरोपों पर आपराधिक मामला जारी रहेगा.

बीबीसी का कहना है कि उस्मोनोव पर लगाए गए आरोप बेमतलब हैं.

आरोप

गुरुवार को उस्मोनोव के बेटे ने बीबीसी को बताया कि प्रोसक्यूटर के कार्यालय से उन्हें फ़ोन आया कि वे आकर अपने पिता को हिरासत केंद्र के बाहर से ले जाएँ.

लेकिन ताजिकिस्तान की एशिया प्लस वेबसाइट के मुताबिक़ उस्मोनोव देश छोड़कर बाहर नहीं जा सकते. उस्मोनोव को दिल की बीमारी है और उन्हें मधुमेह रोग भी है.

गिरफ़्तारी के बाद उस्मोनोव को खुजंद शहर में रखा गया था. बीच में उन्हें परिवारवालों से मिलने दिया गया था. बाद में उनके परिजनों ने दावा किया था कि उन्हें ऐसा लगता था कि उनके साथ मारपीट की गई थी.

लंदन में बीबीसी के पत्रकारों ने उस्मोनोव के लिए प्रार्थना सभा का भी आयोजन किया था.

उस्मोनोव ने बीबीसी सेंट्रल एशियन सर्विस के लिए 10 साल काम किया है. अपनी रिपोर्टिंग के क्रम में वे हिज़्बउत तहरीर के सदस्यों से मिले भी थे.

संबंधित समाचार