कैमरन के साथ सवाल जवाब

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption कैमरन के बयान के बाद विपक्ष के नेता एड मिलिबैंड के तीन सवालों के साथ सवालों का दौर शुरु हुआ

ब्रितानी संसद के एक विशेषसत्र में सांसदों ने प्रधानमंत्री डेविड कैमरन से कड़े सवाल पूछे लेकिन कैमरन ने बार बार अपने संसद में दिए गए बयान को पेश किया. उन्होंने मूल रुप से कहा कि मामले की जांच चल रही है और मीडिया के साथ न केवल उनकी पार्टी के बल्कि विपक्षी दल के भी रिश्ते रहे हैं. कुछ सवाल जवाब.

विपक्षी लेबर पार्टी के नेता एड मिलिबैंड ने तीन सवाल पूछे जिसके बाद अन्य सांसदों को एक एक सवाल पूछने की अनुमति थी जिसके जवाब कैमरन ने दिए

एड मिलिबैंड- 1.क्या न्यूज़कार्प अधिकारियों के साथ बातचीत के दौरान बीस्काईबी के मामले में प्रधानमंत्री ने कोई बातचीत की थी. (बीस्काईबी सेटेलाइट ब्राडकास्ट सेवा है जो टीवी सेवाएं उपलब्ध कराती है.)

कैमरन का बयान

2.एंडी कॉल्सन के मुद्दे पर आपने (प्रधानमंत्री) कहा कि वो अभी दोषी नहीं करार दिए गए हैं लेकिन अब जो जानकारी लोगों के सामने है उससे साफ है कि कॉल्सन जब न्यूज़ ऑफ द वर्ल्ड में थे तब उनके ख़िलाफ़ मामला साबित हो चुका है. लेकिन आपने फिर भी कार्रवाई नहीं की. कम से कम पाँच बार कॉल्सन के ख़िलाफ़ कई आरोप लगे लेकिन आपने क्यों कार्रवाई नहीं की. प्रधानमंत्री आपने ग़लत किया. क्या आप साफकरेंगे कि वो स्पष्ट जानकारी के बावाजूद कार्रवाई क्यों नहीं की.क्या आपके हित नहीं जुड़े हुए थे.

3.क्या प्रधानमंत्री ये मानते हैं कि उन्होंने मेट्रोपोलिटन पुलिस आयुक्त को परेशानी में डाला जिसके कारण उन्हें इस्तीफ़ा देना पडा.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption कैमरन ने बड़े ही आक्रामक अंदाज़ में सवालों के जवाब दिए और कहा कि इस मुद्दे पर राजनीति न की जाए.

प्रधानमंत्री- प्लीज कांस्पीरेसी थ्योरी में न जाए. मैं सभी का जवाब दूंगा. मुझे लगता है कि जो सवाल आप पूछ रहे हैं वो मेरा बयान सुने बिना लिख कर लाए गए. बीस्काई बी के मामले में वरिष्ठ अधिकारियों ने साफ लिख दिया है कि इसमें कोई ग़लती नहीं है. न्यूज़कार्प के साथ जो मीटिंग हुई है वो सब पारदर्शी है. स्पष्ट है. इतना ही नहीं टोनी ब्लेयर और गोर्डन के साथ भी न्यूज़कार्प के साथ भी मुलाक़ात हुई है. उस पर क्यों नहीं साफ स्थिति होती है.

एंडी कॉल्सन के मामले में किसी ने अभी तक कॉल्सन के व्यवहार पर ऊंगली नहीं उठाई गई है.

मेट्रोपोलिटन पुलिस के मामले में हाउस कमिटी के चेयरमैन ही नहीं कई और वरिष्ठ अधिकारियो ने इस पर स्थिति साफ कर दी है कि इस मामले में प्रधानमंत्री की कोई ग़लती नहीं है तो क्या मिलिबैंड इन लोगों से अधिक जानते हैं. मैं साफ करना चाहता हूं कि मर्डोक ने कहा है कि वो सबसे निकट प्रधानमंत्री गॉर्डन ब्राउन के थे. और ब्राउन के सलाहकार मिलिबैंड ही थे. मिलिबैंड ग़लत मुद्दों पर राजनीति कर रहे हैं. ये राजनीति है क्योंकि जो बातें वो कर रहे हैं उससे लेबर पार्टी भी ग्रसित है.

जॉन विटिंगडेल (सवाल)-लोग नाराज़ हैं मीडिया और पुलिस के भ्रष्ट व्यवहार से लेकिन ईमानदार पत्रकार भी हैं और ईमानदार पुलिस भी क्या प्रधानमंत्री सुनिश्चित करेंगे कि जांच ठीक से हो.

प्रधानमंत्री- बिल्कुल सही कह रहे हैं आप. हम तीनों की जांच करेंगे. राजनेता, मीडिया और पुलिस के नेक्स्स के बारे में बहुत समय से जांच नहीं हुई है. हम जांच कर रहे हैं.

सांसद- मैंने पिछले साल पत्र लिखकर प्रधानमंत्री को जानकारी दी थी कि कॉल्सन का व्यवहार ग़लत है लेकिन प्रधानमंत्री ने अभी तक जवाब नहीं दिया है.

प्रधानमंत्री – कॉल्सन ने जितना समय प्रधानमंत्री कार्यालय में दिया उस दौरान उनके खिलाफ कोई शिकायत नहीं की गई थी.

सांसद - पिछले दस साल में सरकारों के मीडिया से क्या संबंध रहे.

प्रधानमंत्री-यह जांच सिर्फ और सिर्फ राजनेता और मीडिया के संबंधों की जांच होगी.. इसमें समय तय नहीं है कि कब तक की जांच करेंग लेकिन साफ है कि दोनों ही राजनीतिक दलों के मीडिया से संबंध रहे हैं और हम इस बात को पीछे छोड़ देते हैं कि मीडिया को कैसे रेगुलेट किया जाए. हमें इस बात पर ईमानदार होना पड़ेगा. बात सिर्फ़ न्यूज़ इंटरनेशनल की नहीं है बीबीसी, इंडिपेंडेट या किसी भी और अख़बार आदि की है.

कीथ वाज़ (सवाल)- होम अफेयर सलेक्ट कमिटी ने कहा कि पुलिस जांच में गंभीर ग़लतियां हैं.

प्रधानमंत्री- मैंने ये रिपोर्ट पूरी नहीं देखी है. आज सुबह. ये रिपोर्ट महत्वपूर्ण होगी लेकिन हम पुलिस की जांच पर ध्यान दे रहे हैं.

सवाल- क्या आपने बीस्काईबी के बारे में न्यूज़कार्प के अधिकारियों से बात की थी.

प्रधानमंत्री - मैंने कोई आपत्तिजनक बात नहीं की थी.

सवाल- टोनी ब्लेयर और न्यूज़ कार्प के क्या संबंध थे.

प्रधानमंत्री-बिल्कुल सही सवाल है लेकिन इस पर कोई चर्चा ही नहीं हो रही है. सभी लोग चेतावनी दे रहे थे लेकिन हमने मीडिया रेगुलेशन पर बात नहीं की. हमें इस पर काम करना होगा.

जेम्स क्लार्कसन सवाल- लोगों को क्या मुआवजा़ मिलेगा.क्योंकि जांच में तो पता नहीं कितना समय लगे.

प्रधानमंत्री-ये सही बात है. हज़ारों लोगों के फोन हैक किए गए थे और जो जांच चल रही है उसमें समय लग सकता है. ये जांच काफी बड़ी हो गई है.हम इसकी तह तक जाने की कोशिश करेंगे.

सवाल- आपसे दो बार पूछा गया आपने जवाब नहीं दिया.बीस्काई बी पर क्या आपने बात की थी न्यूज़ कार्प के साथ.

प्रधानमंत्री-मैंने कभी भी कोई आपत्तिजनक बात नहीं की..मैं कह सकता हूं कि मेरा इसमें कोई रोल नहीं था.इस बारे में लिए गए फैसले में मेरी कोई भूमिका नहीं थी.

सवाल- आप तत्काल प्रतिक्रिया देते हैं लेकिन क्या मीडिया रेगुलेशन के ज़रिए मीडिया की आज़ादी भी खत्म हो जाएगी.

प्रधानमंत्री-हमें तय करना होगा कि विपक्ष और सरकार होने के नाते मीडिया के रेगुलेशन में भी संयम बरतना होगा. क्योंकि मीडिया ने भी अच्छा काम किया है रेगुलेटर्स ने नहीं. हमें मीडिया की स्वतंत्रता को भी बरकरार रखना है.

संबंधित समाचार