सहायता में कटौती प्रस्ताव नामंज़ूर

अमरीकी संसद इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption अमरीकी संसद के इस प्रस्ताव को अभी दूसरे सदन में भी पारित होना है

अमरीकी संसद में उस प्रस्ताव को नामंज़ूर कर दिया गया है जिससे पाकिस्तान को दी जाने वाली सहायता में और कटौती हो सकती थी.

संसद की विदेश मामलों की समिति ने पाकिस्तान को सहायता में कटौती का प्रस्ताव ठुकरा दिया. प्रस्ताव के पक्ष में सिर्फ़ पाँच वोट पड़े, जबकि विपक्ष में 39 मत पड़े.

अमरीका में रिपब्लिकन पार्टी की बहुमत वाली एक संसदीय समिति ने बजट कटौती प्रस्ताव रखा था, जिसमें सरकार की ओर से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दिए जानेवाले कई अनुदानों में कटौती करने का प्रस्ताव था.

इनमें पाकिस्तान को दी जाने वाली सहायता में कटौती का प्रस्ताव भी शामिल था.

संसद के निचले सदन यानी प्रतिनिधि सभा की विदेशी मामलों की समिति ने बुधवार को ये प्रस्ताव रखा था, जिसका लक्ष्य इस्लामिक चरमपंथ पर लगाम कसना और अमरीकी खर्चों में कटौती करना था.

अमरीकी कटौती का असर

लेकिन इसे लागू करवाने के लिए समिति को इस प्रस्ताव को उच्च सदन या सीनेट में भी पारित करवाना होगा जहाँ राष्ट्रपति बराक ओबामा की डेमोक्रेटिक पार्टी बहुमत में है और वो सरकार के अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रमों का समर्थन करती है.

सवाल

पाकिस्तान को दी जाने वाली सहायता में कटौती करने का प्रस्ताव मई में ओसामा बिन लादेन की मौत और पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी की भूमिका पर लगातार उठ रहे सवालों की रोशनी में था.

हाल ही में ओबामा प्रशासन ने पाकिस्तान को दी जाने वाली 2.7 अरब डॉलर की सैन्य सहायता में एक तिहाई की कटौती का भी ऐलान किया था.

लेकिन ओबामा प्रशासन ने कहा था कि नागरिक सहायता के लिए पाँच वर्षों में 7.5 अरब डॉलर देने का जो वादा वर्ष 2009 में किया गया था उसे जारी रखा जाएगा. इस राशि से पाकिस्तान में स्कूल, ढाँचागत सुविधाओं और लोकतांत्रिक संस्थाओं का निर्माण होना है.

विदेशी मामलों की समिति में शामिल डेमोक्रेट सदस्य हॉवर्ड बर्मन ने कहा था कि वे 'पाकिस्तान पर सख़्ती' के पक्ष में हैं लेकिन वे नागरिक सहायता के लिए दी जाने वाली राशि में कटौती से सहमत नहीं हैं.

संबंधित समाचार