तहरीर चौक पर फिर जुटे प्रदर्शनकारी

तहरीर चौक इमेज कॉपीरइट AFP Getty
Image caption तहरीर चौक एक बार फिर प्रदर्शनकारी जमा हो गए हैं.

मिस्र की राजधानी काहिरा के तहरीर चौक पर प्रदर्शनकारी एक बार फिर से जमा हो गए हैं. फ़रवरी में तत्कालीन राष्ट्रपति होस्नी मुबारक के सत्ता छोड़ने के बाद पहली बार इस्लामी नेताओं ने देश भर प्रदर्शनों का आहवान किया है.

प्रदर्शनकारी मिस्र में एक इस्लामी राज्य की स्थापना की मांग कर रहे हैं.

मोहम्मद हेजाज़ी नाम के एक प्रदर्शनकारी ने बीबीसी को बताया,"दुनिया ने हर किस्म के सिस्टम आजमा लिए हैं. हम 30 साल से सेक्यूलर सिस्टम का हिस्सा रहे हैं. मैं यही कहता कि शरीयत को लागू करो लेकिन उन लोगों को तो आजमाइये शरीयत को लागू करना चाहते हैं."

'चिंता की बात'

बीबीसी के काहिरा संवाददाता के अनुसार ये प्रदर्शन मिस्र के सेक्यूलरवादियों के लिए एक चिंता का विषय होंगे.

संवाददाता के अनुसार ये प्रदर्शन काफ़ी बड़ा हो सकता है क्योंकि मुस्लिम ब्रदरहुड देश में सबसे बड़ी राजनीतिक ताक़त है, हालांकि इस संस्था ने फ़रवरी की क्रांति में प्रमुख भूमिका नहीं निभाई थी.

प्रदर्शनकारी मुबारक सरकार के सदस्यों और प्रदर्शनकारियों को मारने वालों के विरुद्ध तुरंत कार्रवाई की मांग भी कर रहे हैं.

ग़ौरतलब है कि पूर्व राष्ट्रपति होस्नी मुबारक और उनके दस सहयोगियों पर अगले हफ़्ते से मुकदमें की सुनवाई शूरू हो रही है.

संबंधित समाचार