अमरीका की रेटिंग गिरने पर चीन चिंतित

डॉलर
Image caption अमरीकी कर्ज़े की समस्या से चीन में चिंताए व्यक्त की जा रही हैं.

चीन के सरकारी मीडिया ने अमरीका से आर्थिक दिक्कतों से निपटने की सलाह दी है ताकि चीन की अमरीकी मुद्रा में संपत्ति की रक्षा हो सके.

चीनी मीडिया में ये चिंताए अमरीका की शीर्ष क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों में से एक के अमरीका की क्रडिट रेटिंग गिराने के बाद आई है.

ग़ौरतलब है कि स्टैंडर्ड एंड पूअर्स (एसएंडपी) ने अमरीका के बढ़ते बजट घाटे की चिंताओं के बीच उसकी लंबी अवधि की क्रेडिट रेटिंग एएए+ से घटाकर एए+ कर दी है.

चीन की सरकारी न्यूज़ एजेंसी शिन्हुआ ने कहा कि वो दिन बीत गए जब अमरीका किसी भी संकट से कर्ज़ लेकर बच निकलता था.

एजेंसी ने लिखा है कि अगर अमरीका अपने भारी सैन्य बजट और जन कल्याण पर ख़र्चों में कटौती नहीं करता है तो भविष्य में उसकी रेटिंग और भी कम हो सकती है.

चीन का दो तिहाई फ़ोरेन एक्सचेज़ रिज़र्व यानि विदेशी पूंजी भंडार डॉलर में है. और ज़ाहिर डॉलर की दबाव का असर चीन की आर्थिक स्थिति पर भी पड़ेगा.

नीचे गिरा क्रेडिट रेटिंग स्तर

इससे पहले क्रेडिट रेटिंग एजेंसी स्टैंडर्ड ऐंड पुअर ने अमरीका की कर्ज़ की स्थिति पर चिंता ज़ाहिर करते हुए उसकी क्रेडिट रेटिंग एक स्तर नीचे गिरा दी है.

एजेंसी ने कहा है कि मंगलवार को कर्ज़ की सीमा बढ़ाने का विधेयक पारित हो जाना पर्याप्त नहीं था.

इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए अमरीका के वित्त मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा है, "इस आकलन में दो करोड़ ख़रब डॉलर की ग़लती है और वही अपने आपमें बहुत कुछ कहता है."

प्रवक्ता ने इसके बारे में और कुछ नहीं कहा है. लेकिन जब क्रेडिट रेटिंग कम करने की अफ़वाहें चल रहीं थी तो एक अधिकारी ने कहा था कि एसएंडपी का आकलन ग़लत है.

संबंधित समाचार