लंदन के टौटेनहम में फ़साद और लूट मार

टौटेनहम इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption लंदन में इस तरह की हिंसा कम ही देखने को मिलती है.

उत्तरी लंदन के टौटेनहम इलाक़े में पुलिस की फ़ायरिंग में एक व्यक्ति की मौत के बाद भड़के दंगे में पुलिस पर पेट्रोल बम से हमले किए गए हैं.

गुरूवार को कथित तौर पर पुलिस फ़ायरिंग में 29 साल के मार्क डग्गन की मौत हो गई थी जिसके बाद विरोध प्रदर्शन शूरु हो गए थे लेकिन शनिवार और रविवार की दरम्यिनी रात में इन प्रदर्शनों ने दंगे का रूप ले लिया.

दंगाईयों ने पुलिस, तीन पेट्रोल कार, एक बस और कई इमारतों पर पेट्रोल बम से हमले किए.

आठ घायल पुलिसकर्मियों को अस्पताल ले जाया गया है जिनमें एक पुलिसकर्मी को सिर पर गंभीर चोट लगी है.

लगभग तीन सौ प्रदर्शनकारी टौटेनहम के हाईरोड पुलिस स्टेशन के पास जमा हो गए और इन्साफ़ की गुहार करने लगे.

लूटपाट

दंगाईयों ने कई दुकानें भी लूटीं और लोग दुकानों से ट्रॉलियां भरकर सामान लूटकर भागते हुए देखे गए.

लंदन एम्बुलेंस सेवा के अनुसार दस लोगों का प्राथमिक उपचार किया गया और नौ लोगों को अस्पताल ले जाया गया है.

सड़कों पर गश्त लगा रहीं दो कारों को भी आग लगा दी गई लेकिन उस समय कोई अधिकारी उस कार में मौजूद नहीं था.

हाईरोड और ब्रुक स्ट्रीट के चौराहे पर एक डबलडेकर बस को आग लगा दी गई.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption गुरूवार को पुलिस 'फ़ायरिंग' में एक नौजवान के मारे जाने के बाद हिंसा शूरू हुई.

शुरू में फ़ायर ब्रिगेड की गांड़ियां दंगों की वजह से समय पर नहीं पहुंच पा सकीं थी लेकिन बाद में वे पहुंच गईं और आग बुझाने में सफल हो गईं.

बीबीसी टीवी के कुछ कर्मचारी और सैटेलाईट ट्रक भी हमले के शिकार हुए.

मेट्रोपौलिटन पुलिस के स्टीफ़न वाटसन ने बीबीसी को बताया कि इलाक़े में जल्द से जल्द शांति बहाल करने के लिए बड़ी मात्रा में पुलिस बल तैनात कर दिए गए हैं.

घटनास्थल पर मौजूद बीबीसी संवाददाता से बताया कि पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़पें जारी है और फ़ायर ब्रिगेड की गांडियां भी प्रदर्शनकारियों की हिंसा की शिकार बनी.

घटना स्थल पर मौजूद एक चश्मदीद टीम ने हालात का जायज़ा लेते हुए कहा, ''ये इलाक़ा इस वक़्त युद्घ का दृ्श्य पेश कर रहा है.मैंने पांच युवकों को देखा जिन्हों ने अपने चेहरों को ढक रखा था. उन्होंने कचरे की एक ट्रॉली को आग लगा दी और उसे पुलिस की तरफ़ फेंक दिया.''

शांति की अपील

टौटेनहम के सांसद डेविड लैमी ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करते हुए कहा, ''जो कुछ इस वक़्त हो रहा है वो हमारी बिरादरी के अधिकतर लोगों की सोच को नहीं दर्शाता है.जिन्हें पिछले दिनों की हिंसक वारदातें याद हैं वो निश्चित तौर पर उस दौर में दोबारा वापस नहीं जाना चाहेंगे.''

सांसद ने कहा कि पूरी जांच पड़ताल के बाद ही पीड़ित को सही इनसाफ़ मिल सकेगा.

इंडीपेन्डेंट पुलिस कंप्लेन कमीशन यानि आईपीपीसी मार्क डग्गल की पुलिस फ़ायरिंग में हुई मौत की जांच कर रही है.

उस घटना में एक पुलिसकर्मी भी घायल हुआ था जिसे अस्पताल में ले जाया गया था,लेकिन कुछ उपचार के बाद पुलिसकर्मी को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी.

पुलिस के अनुसार पुलिस ने एक गाड़ी को रोका जिसमें मार्क डग्गन बैठे हुए थे. पुलिस के अनुसार मार्क ने पुलिस पर फ़ायरिंग की जिसके बाद पुलिस ने गोली चलाई, लेकिन आईपीपीसी के प्रवक्ता ने कहा कि अभी इस बारे में कुछ भी दावे के साथ नहीं कहा जा सकता है.

मेट्रोपोलिटन पुलिस ने कहा कि घटना स्थल से एक हैंडगन और बुलेट भी बरामद किए गए हैं.

आईपीपीसी की कमीश्नर ने कहा कि वो मार्क के परिवार से लगातार संपर्क में हैं और मामले से जुड़े सारे सुबूत जमा किए जा रहें हैं जिसे जितनी जल्द ही सार्वजनिक कर दिया जाएगा.

लंदन के मेयर के प्रवक्ता ने भी कहा कि संपत्ति को बर्बाद करने और हिंसा फैलाने से मामले की जाचं में कोई मदद नहीं मिलेगी.

उन्होंने लोगों से क़ानून का पालन करने की अपील की है.

संबंधित समाचार