'अच्छी सेहत के लिए खाएँ कम नमक'

ये बात बहुत से लोग जानते है कि उच्च रक्तचाप के मरीज़ों को ज़्यादा नमक नहीं खाना चाहिए.

साथ ही खाने में ज़्यादा नमक के इस्तेमाल से दिल की बीमारी होने का ख़तरा भी बढ़ जाता है. मानव शरीर पर नमक के प्रभाव को लेकर एक लंबी बहस चलती रही है.

लेकिन नमक से होने वाले प्रभाव का अध्ययन करने वाले वैज्ञानिकों का कहना है कि अब लोगों के स्वास्थ्य को ठीक रखने के लिए नमक की मात्रा घटाना बेहद आवश्यक है.

इस सिलसिले में वैज्ञानिकों ने संयुक्त राष्ट्र से कहा है कि वह खाने की चीज़ों में इस्तेमाल हो रहे नमक की मात्रा घटाने पर अहमियत दे. वैज्ञानिक अगले दस सालों में नमक के इस्तेमाल में कटौती करने पर ज़ोर दे रहे हैं.

ब्रिटेन की मेडिकल पत्रिका में इन शोधकर्ताओं ने लिखा है कि अगले 10 सालों में अगर खाने में नमक की मात्रा 15 फीसदी कम की जाती है तो इससे आठ करोड़ पचाल लाख लोगों की जान बच पाएगी.

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर स्वेच्छापूर्ण उठाए गए कदम नहीं काम करते हैं तो खाद्य उद्योग पर नमक का इस्तेमाल कम करने पर ज़ोर डालना चाहिए.

नियम

इन वैज्ञानिकों का कहना है कि लोगों की अच्छी सेहत के लिए तंबाकू के बाद नमक के इस्तेमाल में कटौती करना एक बहुत ही सस्ता और फ़ायदेमंद तरीक़ा है.

शोधकर्तोओं के मुताबिक नमक का कितना इस्तेमाल किया जाना चाहिए इसे परिभाषित करना ज़रूरी है.

केवल अमरीका में ही अगर नमक का इस्तेमाल एक तिहाई कम कर दिया जाता है तो इससे स्वास्थ्य सेवाओं पर 24 अरब डॉलर ख़र्च कम होगा.

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि विकासशील देशों में 70 प्रतिशत लोगों की मौत दिल का दौरा पड़ने से होती है. इसलिए पूरी दुनिया में अगर लोग नमक के इस्तेमाल में कमी लाए तो सभी की सेहत पर इसका प्रभाव अच्छा पड़ेगा.

वैज्ञानिकों का कहना है कि केवल जनता को जानकारी देकर नमक के इस्तेमाल में कटौती नहीं लाई जा सकती बल्कि खाद्य उद्योग के लिए प्रभावशाली नियम बनाने की ज़रुरत है क्योंकि बहुत सी खाने के सामान में उनकी बिक्री से पहले नमक डाला जाता है.

वैज्ञानिक मानते हैं कि अगर स्वेच्छा से नमक के इस्तेमाल में कटौती नहीं लाई जा सकती है तो फिर सरकार को नियम बना देने चाहिए.

लेकिन नमक उद्योग से जुड़े संगठन इस रिपोर्ट को ख़ारिज करते हुए ये दलील देते है कि नमक के इस्तेमाल में कटौती करना शहरी लोगों की धारणा है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.