इसराइल से मिस्र के राजदूत की वापसी

विरोध प्रदर्शन
Image caption मिस्र के लोगों ने इसराइली राजदूत को देश से निकाले जाने की मांग की.

मिस्र का कहना है कि वह इसराइल सीमा पर पाँच सैनिकों के मारे जाने के बाद इसराइल में अपने देश के राजदूत को वापस बुला रहा है.

गुरुवार को हुए इसराइल के दक्षिणी हिस्से में हुए घातक हमलों में मिस्र के सैनिक मारे गए थे. इसराइल ने इन हमलों के लिए फ़लस्तीनी चरमपंथियों को ज़िम्मेदार ठहराया था.

मिस्र ने इसराइल को इन हमलों के लिए ज़िम्मेदार ठहराते हुए जाँच की मांग की है साथ ही माफ़ी मांगने को कहा है.

इसराइल के अधिकारियों ने जाँच का वादा किया है.

विरोध प्रदर्शन

मिस्र की सरकार द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि अगर उन्हें इसराइली अधिकारियों की जाँच के नतीजों की जानकारी नही दी जाती तो इसराइल में मिस्र के राजदूत को वापस बुला लिया जाएगा.

इस बीच काहिरा में इसराइली दूतावास के बाहर काफ़ी तादाद में मिस्र के लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया. प्रदर्शनकारी इसराइली राजदूत को देश से निकाले जाने की मांग कर रहे थे.

इससे पहले, इससे पहले मिस्र ने अपने सुरक्षाबलों के मारे जाने को लेकर इसराइली अधिकारियों से औपचारिक शिकायत दर्ज कराई थी.

तीन सुरक्षाकर्मी बृहस्पतिवार को हुई गोलीबारी में मारे गए थे जबकि बाकी दो ने घायल होने के बाद दम तोड़ दिया था.

घटना उस समय हुई थी जब इसराइल संदिग्ध चरमपंथियों की तलाश में मिस्र से सटी सीमा पर अभियान चला रहा था.

इसके बाद से ही इसराइल ने गज़ा पट्टी पर कई हवाई हमले किए जिसमें कम से कम चौदह फ़लस्तीनी मारे गए. जवाब में फ़लस्तीनी चरमपंथियों ने इसराइल पर कम से कम बीस रॉकेट दागे हैं

संबंधित समाचार