त्रिपोली में भीषण लड़ाई जारी, गद्दाफ़ी का कोई पता नहीं

लीबिया
Image caption त्रिपोली में अब भी कई इलाक़ों में भीषण लड़ाई जारी है.

लीबिया की राजधानी त्रिपोली के कई इलाक़ों में राष्ट्रपति कर्नल गद्दाफ़ी के वफ़ादार सैनिकों और विद्रोहियों के बीच अब भी भीषण लड़ाई जारी है.

लेकिन कर्नल गद्दाफ़ी ख़ुद कहां है इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है.

इस बीच अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने लीबियाई नागरिकों को मुबारकबाद देते हुए कहा है कि उन्होंने इसके लिए बहुत कुर्बानियां दी हैं.

ओबामा ने कहा कि हालाकि अभी भी लड़ाई जारी है लेकिन लीबियाई नागरिक जिसके हक़दार हैं वे उसे पाने के बहुत क़रीब हैं.

उन्होंने कहा कि लीबिया में शांतिपूर्ण तरीक़े से सत्ता का परिवर्तन होना चाहिए जिसमें समाज के सभी हिस्से की भागीदारी होनी चाहिए.

लीबिया की ताज़ा घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने चेतावनी देते हुए कहा कि संयुक्त राष्ट्र के सभी सदस्य देशों की ये ज़िम्मेदारी है कि वे अंतरराष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय के आदेश का पालन करें जिसने कर्नल गद्दाफ़ी, उनके पुत्र सैफ़ुल इस्लाम और उनके ख़ुफ़िया प्रमुख के ख़िलाफ़ गिरफ़्तारी के लिए वारेंट जारी कर रखा है.

सोमवार को विद्रोहियों ने दावा किया था कि उन्होंने गद्दाफ़ी के दो बेटों को गिरफ़्तार कर लिया है. लेकिन गद्दाफ़ी खुद कहां हैं इस बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं है.

विद्रोहियों के प्रमुख मुस्तफ़ा अब्दुल जलील ने कहा है कि उनके लिए जीत का असली क्षण तभी आएगा जब गद्दाफ़ी पकड़े जाएंगें.

अरब लीग के महासचिव नबील अलारादी ने लीबिया में विद्रोहियों को पूर्ण समर्थन देने की घोषणा की है. लीबिया के पड़ोसी मिस्र ने विद्रोहियों के राष्ट्रीय ट्रांज़िश्नल काउंसिल को मान्यता दे दी है.

भीषण लड़ाई

इस बीच त्रिपोली के कई इलाक़ो से भीषण लड़ाई की ख़बरें मिल रहीं हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption कर्नल गद्दाफ़ी कहां हैं इस बारे में अभी भी सस्पेंस बना हुआ है.

विद्रोहियों का दावा है कि उन्होंने राष्ट्रीय टीवी चैनल के मुख्यालय समेत राजधानी के 80 फ़ीसदी इलाक़े पर क़ब्ज़ा कर लिया है लेकिन अभी भी कुछ इलाक़ो में उन्हें गद्दाफ़ी के वफ़ादार सैनिकों से कड़ी चुनौती मिल रही है.

रविवार देर रात विद्रोहियों ने त्रिपोली पर धावा बोला था और शहर के एक प्रमुख स्थल ग्रीन स्क्वेयर पर कब्ज़ा कर लिया था. राजधानी के हज़ारों लोगों ने विद्रोहियों का स्वागत किया था.

लकिन विद्रोहियों के क़ाफ़िले के साथ चल रहे एक बीबीसी संवाददाता का कहना है कि विद्रोही कई मोर्चों पर गद्दाफ़ी के वफ़ादार सैनिकों से हार गए है और उनका सैन्य कारवां राजधानी से पूरी तरह पीछे हट गया है.

शहर के एक जानेमाने रिकोस होटल के आस पास भी गद्दाफ़ी के वफ़ादार सैनिकों का क़ब्ज़ा बना हुआ है. इसी होटल में ज़्यादातर विदेशी पत्रकार ठहरे हुए हैं.

शहर के पश्चिमी इलाक़े में जिन जगहों पर रविवार को विद्रोहियों ने क़ब्ज़ा कर लिया था सोमवार की देर शाम उन्हें वहां से पीछे हटना पड़ा था.

त्रिपोली के एक निवासी ने कहा,'' हमलोग ख़ुद को भीषण लड़ाई की एक और रात के लिए तैयार कर रहें हैं. मेरा ख़्याल है कि गद्दफ़ी के सैनिक गोरिल्ला लड़ाई लड़ेगें क्योंकि उन्हें पता है कि उनके पास लोगों का समर्थन नहीं है.''

लेकिन त्रिपोली के ही एक दूसरे नागरिक का कहना था, ''विद्रोही लड़ाके लोगों के घरों में घुस रहें हैं और लूट पाट कर रहें हैं. विद्रोहियों का हमला लीबिया और नैटो के लिए त्रासदी होगी.''

संबंधित समाचार