सरकार गिरने वाली नहीं: असद

बशर अल असद इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption असद ने इससे इनकार किया कि सरकार को कोई ख़तरा है

सीरिया के राष्ट्रपति बशर-अल-असग ने कहा है किकई महीनों से चल रहे प्रदर्शनों के बावजूद उनकी सरकार के गिरने का कोई ख़तरा नहीं है.

सरकारी टेलीविज़न को दिए गए इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि सीरिया की समस्या राजनीतिक है, लेकिन सुरक्षा बलों को हिंसा से सख़्ती से निपटना चाहिए.

उन्होंने कहा कि बहुदलीय व्यवस्था शुरू करने के लिए क़दम उठाए जा रहे हैं और हो सकता है कि फ़रवरी में चुनाव कराए जाएं.

इस बीच इस संकट पर विचार करने के लिए संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद की जिनेवा में बैठक हो रही है.

सीरिया की हिंसा में अब तक 2500 लोग मारे जा चुके हैं. इस बात की संभावना है कि परिषद राष्ट्रपति असद के विरोधियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने के लिए सीरिया सरकार की भर्त्सना का प्रस्ताव पास कर सकती है.

माँग

इस महीने के आरंभ में संयुक्त राष्ट्र जाँचकर्ताओं ने सीरिया के सुरक्षा बलों पर मानवाधिकारों के व्यापक उल्लंघन का आरोप लगाया था. अमरीका और यूरोपीय संघ के कई देश असद के इस्तीफ़े की माँग कर रहे हैं.

सीरिया में पहली बार मार्च के मध्य में प्रदर्शन शुरू हुए थे. प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति असद को हटाए जाने की माँग कर रहे हैं. उनका परिवार पिछले 40 वर्षों से सीरिया में सत्ता में है.

मानवाधिकार संगठनों का कहना है कि मार्च से अब तक क़रीब 2000 लोग और 500 सैनिक मारे जा चुके हैं और हज़ारों लोग गिरफ़्तार कर लिए गए हैं.

रविवार को दिए गए इंटरव्यू में असद ने चेतावनी दी थी कि किसी भी विदेशी सैनिक हस्तक्षेप का उलटा असर पड़ेगा.

उन्होंने कहा था, "सीरिया के ख़िलाफ़ किसी भी कार्रवाई के इतने घातक परिणाम होंगे कि वह बर्दाश्त नहीं कर पाएंगे. ऐसा सीरिया की भू-राजनीतिक स्थिति और उसकी क्षमताओं के कारण होगा."

उन्होंने यह भी कहा कि उनके शासन के विरोधी अब अधिकतर हिंसा का सहारा लेते हुए सेना,पुलिस और सुरक्षा बलों पर हमला कर रहे हैं. उनके अनुसार अफ़गानिस्तान, इराक़ और लीबिया में ख़ून बहाने के लिए राष्ट्रपति ओबामा और दूसरे पश्चिमी नेताओं को अपने पद से हट जाना चाहिए.

संबंधित समाचार