गद्दाफ़ी के परिसर के आसपास लड़ाई

त्रिपोली इमेज कॉपीरइट BBC World Service

लीबिया की राजधानी त्रिपोली में राष्ट्रपति कर्नल गद्दाफ़ी परिसर के आसपास भारी लड़ाई चल रही है. रविवार को हुई भीषण लड़ाई में शहर का ज़्यादातर हिस्सा विद्रोहियों के नियंत्रण में आ गया था.

गद्दाफ़ी समर्थक प्रदर्शनकारियों का केंद्र रहा शहर का ग्रीन स्क्वेयर रातभर में जश्न मना रहे गद्दाफ़ी विरोधियों का अड्डा बना रहा.

विद्रोहियों को शहर में कोई ख़ास प्रतिरोध का सामना नहीं करना पड़ा और शहर के पूर्वी, दक्षिणी और पश्चिमी हिस्से से उन्होंने शहर में हमला बोला.

विद्रोहियों के एक प्रवक्ता का कहना है कि अब भी शहर के 15 से 20 फ़ीसदी इलाक़ों में गद्दाफ़ी समर्थकों का नियंत्रण बना हुआ है.

इस बीच विद्रोहियों ने कहा है कि उन्होंने कर्नल गद्दाफ़ी के बेटे सैफ़ अल इस्लामा को पकड़ लिया है और वो उनकी क़ैद में हैं.

संदेश

अंतरराष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय के लुईस मैरिनो ओकैंपो ने इस ख़बर की पुष्टि की है कि कर्नल ग़द्दाफ़ी के बेटे सैफ़ अल-इस्लाम को हिरासत में ले लिया गया है. कर्नल ग़द्दाफ़ी के दूसरे बेटे मोहम्मद भी विद्रोहियों के क़ब्ज़े में हैं.

लेकिन अभी तक कर्नल गद्दाफ़ी के बारे में कुछ भी पता नहीं चल पाया है. हालांकि कर्नल ग़द्दाफ़ी के कई रेडियो संदेश प्रसारित किए गए हैं लेकिन ये साफ़ नहीं है कि वह त्रिपोली में हैं या नहीं.

रेडियो संदेशों में उन्होंने क़बायली लोगों से आग्रह किया है कि वे त्रिपोली आकर विद्रोहियों से युद्ध करें उन्होंने चेतावनी दी है कि वरना वे फ्रांसीसी 'सेना' के सेवक बन जाएंगे.

विद्रोहियों के एक प्रवक्ता ने बताया कि सोमवार की सुबह गद्दाफ़ी के बाब अल अज़ीज़िया परिसर से टैंक निकले और फिर गोलियाँ चलनी शुरू हो गईं.

पश्चिमी नेताओं ने विद्रोहियों की बढ़त का स्वागत किया है और कर्नल गद्दाफ़ी से सत्ता छोड़ने की अपील की है.

लड़ाई जारी

ग़द्दाफ़ी के परिसर के पास भारी लड़ाई जारी है और वहां से तोपों के चलने की बात कही जा रही है. बीबीसी के एक संवाददाता ने कहा है कि त्रिपोली के अलग-अलग इलाक़ों ने दोनों पक्षों का क़ब्ज़ा है.

एक विद्रोही लड़ाके ने कहा है कि शहर का बीस प्रतिशत हिस्सा अब भी ग़द्दाफ़ी की सेना के हाथ में है.

लीबिया की राजधानी त्रिपोली के आस पास भीषण संघर्ष के बाद विद्रोहियों का एक काफ़िला रविवार को शहर के बीच तक पहुँच गया जहां लोगों ने उनका ज़ोरदार स्वागत किया.

ग्रीन स्क्वॉयर पर उत्साहित लोगों की भीड़ ने झंडे लहराकर और आसमान में गोलियाँ दाग़कर विद्रोहियों का स्वागत किया.

ये ग्रीन स्क्वॉयर वही जगह है जहाँ इससे पहले ग़द्दाफ़ी के समर्थन में प्रदर्शन होते रहे हैं और विद्रोहियों का कहना है कि अब से उस जगह को उसके पुराने नाम 'शहीद चौक' से ही जाना जाएगा.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने इस मौक़े पर कहा है कि ग़द्दाफ़ी की सत्ता अब एक 'निर्णायक बिंदु' पर पहुँच गई है. वहीं ब्रिटेन की ओर से कहा गया है कि लीबियाई नेता की सत्ता का अंत अब नज़दीक़ है इसलिए उन्हें ख़ुद ही चले जाना चाहिए.

संघर्ष

त्रिपोली में मौजूद बीबीसी संवाददाता मैथ्यू प्राइस के अनुसार विद्रोही उस होटल पर क़ब्ज़े की कोशिश कर रहे हैं जहाँ वह और कई अन्य पत्रकार ठहरे हुए हैं.

विद्रोहियों के 'नेशनल ट्रांज़िशन काउंसिल' के प्रमुख मुस्तफ़ा मोहम्मद अब्दुल जलील ने सोमवार तड़के कहा, "मैं आप लोगों को चेतावनी देना चाहूँगा कि त्रिपोली में और उसके आस-पास अब भी आपको विरोध का सामना करना होगा."

लीबिया के सूचना मंत्री मूसा इब्राहिम ने बताया है कि शहर में रविवार दोपहर से जारी संघर्ष में 1300 लोगों की मौत हुई है जबकि 5000 लोग घायल बताए जा रहे हैं. उनका कहना है कि अब तो अस्पतालों में और हताहतों के लिए जगह भी नहीं बची है.

प्रतिक्रियाएँ

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption त्रिपोली पर विद्रोहियों के क़ब्ज़े की ख़बर आते ही बेनग़ाज़ी में लोगों ने बाहर निकलकर ख़ुशियाँ मनाईं

विद्रोहियों ने पिछले दिनों में पूर्व और पश्चिम दोनों ओर से शहर का रुख़ किया है जबकि नैटो की सेनाओं की ओर से उन्हें वायुसेना की सहायता मिल रही थी.

वॉशिंगटन से अमरीकी राष्ट्रपति ओबामा की ओर से जारी बयान में कहा गया, "आज रात ग़द्दाफ़ी शासन के विरुद्ध लहर एक निर्णायक बिंदु पर है. त्रिपोली एक तानाशाह के हाथों से खिसक रहा है."

ब्रितानी प्रधानमंत्री डेविड कैमरन का कहना था, "ये स्पष्ट है कि ग़द्दाफ़ी के शासन का अंत अब निकट है."

टेलीविज़न पर तस्वीरों में दिख रहा है कि लीबियाई लोग घुटनों पर बैठे त्रिपोली की ज़मीन को चूम रहे हैं.

विद्रोहियों के प्रमुख जलील ने कहा कि अगर कर्नल ग़द्दाफ़ी जाने की घोषणा कर दें तो उनकी कार्रवाई रुक जाएगी.

उन्होंने बताया कि सैफ़ अल-इस्लाम को 'कड़ी सुरक्षा के बीच एक सुरक्षित जगह पर रखा गया गया है.'

जलील का कहना है कि विद्रोही फ़ौज कर्नल ग़द्दाफ़ी और उनके बेटों को सुरक्षित देश छोड़ने देने के लिए तैयार है.

संबंधित समाचार