लीबिया: संघर्ष के बाद तबाही का मंज़र

त्रिपोली में अस्पताल इमेज कॉपीरइट getty
Image caption त्रिपोली के एक अस्पताल में दो सौ से अधिक विच्छिन्न शव मिले हैं.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने कहा है कि लीबिया में संघर्ष 'निर्णायक दौर में पहुंच गया है' और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को लीबिया में शांति बहाल करने के लिए आगे आना चाहिए.

बान की मून ने इस बात पर ज़ोर दिया है कि लीबिया में नया नेतृत्व स्थापित करने और सत्ता हस्तांतरण की प्रक्रिया को सहज बनाने के लिए एकजुट होकर काम करना ज़रूरी है.

विद्रोहियों का कहना है कि उन्होंने त्रिपोली के लगभग सभी इलाकों पर नियंत्रण कर लिया है. अब विद्रोहियों का पूरा ध्यान गद्दाफ़ी के गृह शहर सिर्ते की ओर केंद्रित हो रहा है. ये शहर अब भी गद्दाफ़ी की गढ़ माना जा रहा है.

मानवीय संकट

इस बीच अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने लीबिया में मानवीय संकट से निपटने के लिए कोशिशें तेज़ कर दी हैं.

लंबे संघर्ष के बाद त्रिपोली सहित लीबिया के ज़्यादातर इलाकों में तबाही का मंज़र है. अधिकतर इलाकों में पानी की सप्लाई नहीं है, अस्पतालों में आपात सुविधाओं की कमी है और ईंधन सहित खाने के सामानों का कोई इंतज़ाम नहीं हो पा रहा है.

त्रिपोली स्थित बीबीसी संवाददाता डेनियल सैंडफोर्ड के मुताबिक पानी के अलावा ज़्यादातर इलाकों में बिजली की आपूर्ति भी पूरी तरह बाधित है.

हालात इतने बद्तर हो चुके हैं कि जगह-जगह कूड़े के ढेर लगे हैं.

लीबिया की राजधानी त्रिपोली के एक अस्पताल में दो सौ से अधिक विच्छिन्न शव मिले हैं. ये अस्पताल उसी क्षेत्र में जहां पिछले कुछ दिनों में विद्रोहियों और गद्दाफ़ी समर्थकों के बीच भीषण युद्ध हुआ है.

विद्रोहियों और गद्दाफ़ी समर्थकों के बीच छिड़ी भीषण जंग के दौरान डॉक्टर और नर्स इस अस्पताल को छोड़ भाग गए थे. वे अपने पीछे कई बुरी तरह से घायलों को त्रिपोली की तपती गर्मी में छोड़ गए थे.

मज़बूत नेतृत्व की खोज?

मानवाधिकार संगठनों के साथ अबु सलीम क्षेत्र में स्थित इस अस्पताल का दौरा करने वाले बीबीसी संवाददाता के मुताबिक इसके अलावा शहर के अन्य हिस्सों से भी शव बरामद हो रहे हैं. इनमें से कुछ को अब भी हथकड़ियां लगी हुई हैं.

लीबिया में दोनों पक्ष एक-दूसरे पर यातनाओं के आरोप लगाते रहे हैं. यही वजह है कि ये पता लगाना असंभव है कि अस्पताल में इतने सारे लोग कैसे मरे होंगे.

जानकारों का कहना है 20 लाख से ज़्यादा लोगों की जनसंख्या वाले शहर त्रिपोली में लोग हिंसा से त्रस्त हैं लेकिन आने वाले समय के लिए उनके सामने सबसे पास सवाल एक मज़बूत नेतृत्व की खोज का है.

संबंधित समाचार