सीरिया: हिरासत में 88 मौतों का विवरण

सीरिया इमेज कॉपीरइट Getty

अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संस्था एमनेस्टी इंटरनेशल का कहना है सीरिया में पिछले पांच महीनों में सरकार विरोधी प्रदर्शनों में पुलिस हिरासत में लिए गए 88 लोग मारे गए हैं.

सीरिया में पिछले पांच महीनों से सरकार विरोधी प्रदर्शन चल रहे हैं.

सीरिया में सरकार विरोधी राष्ट्रपति बशर अल असद के इस्तीफ़े और व्यापक राजनीतिक सुधारों की मांग कर रहे हैं. बशर अल असद का परिवार पिछले लगभग 40 साल से सीरिया में सत्ता में बना हुआ है.

यंत्रणा के आरोप

एमनेस्टी ने बीबीसी को वीडियो के ज़रिए जो तस्वीरें उपलब्ध कराई हैं उन्हें देखने से लगता है कि लोगों को पुलिस हिरासत में बुरी तरह से पीटा गया है, जलाया गया है, बिजली के झटके दीए गए हैं साथ ही और भी तरह से प्रताड़ना दी गई है.

एमनेस्टी के लिए सीरिया पर शोध करने वाले नील सैमंड्स का कहना है कि हिरासत में मौतें बढ़ती ही जा रही हैं. उनके अनुसार इन मौतों से भी जो कुछ सीरिया की सड़कों में हो रहा है उसके खिलाफ़ शासन के मन में जमी घृणा जाहिर होती है.

सैमंड्स का दावा है कि एमनेस्टी के पास कम से कम 3000 ऐसे लोगों के नाम हैं जो कि इस समय पुलिस हिरासत में मौजूद हैं.

सैमंड्स का कहना है," ऐसा कहा जाता है कि सीरिया में कम से कम 12000 से 15000 लोग पुलिस हिरासत में मौजूद हैं. हमें मालूम है कि पिछले कुछ सालों में यानाएँ देने की घटनाएं बढीं हैं. हिरासत में मौजूद लोगों का बाहर की दुनिया से कोई संपर्क नहीं है."

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सख्त कार्रवाई के बावजूद सरकार विरोधी प्रदर्शन जारी हैं

सरकार विरोधी प्रदर्शन

सीरिया में डेरा पहला शहर था जहाँ कि प्रजातंत्र के लिए प्रदर्शन किए गए. उस समय ऐसे आरोप लगे की सीरियाई सुरक्षा बलों ने उन प्रदर्शनों को बुरी तरह कुचला और ऐसा माना जाता है कि उन प्रदर्शनों में दर्जनों लोग मारे गए और सैकड़ों गिरफ़्तार कर लिए गए.

एमनेस्टी का कहना है कि सरकारी कार्रवाई में सभी पीड़ित पुरुष या लड़के थे. एमनेस्टी के अनुसार 88 में से 52 मौतों में यातनाएँ देने या बदसलूकी से मौत होने के साफ़ निशान मिलते हैं.

एमनेस्टी का यह भी दावा है कि सीरिया में सुधारों के लिए प्रदर्शनों के शुरू होने के बाद से कम से कम 1800 लोग मारे जा चुके हैं. संस्था के अनुसार हज़ारों लोग अभी भी हिरासत में हैं जिनका बाहर की दुनिया से कोई संपर्क नहीं है.

बढ़ते प्रदर्शन

बावजूद भारी सरकारी कारवाई के सीरिया में सरकार विरोधी प्रदर्शन जारी हैं.

मंगलवार को रमजान की आखिरी नमाज़ के बाद देश भर में लोगो ने नमाज़ के बाद राष्ट्रपति बशर अल असद की सरकार के खिलाफ़ प्रदर्शन किया.

सुरक्षा बलों की गोलियों से मरने वालों में डेरा शहर में एक 13 साल का एक बच्चा भी है.

संबंधित समाचार