त्रिपोली को पटरी पर लाने की शुरुआत

लीबिया इमेज कॉपीरइट AP

लीबिया के नए असैनिक नेताओं ने क्रांति के बाद त्रिपोली में व्यवस्था बहाली के कदम उठाने की शुरुआत कर दी है.

लीबिया में राष्ट्रीय अंतरिम परिषद (एनटीसी) के एक सैन्य प्रवक्ता ने कहा है कि लड़ाकों को घर लौटने के लिए या फिर फ़ौज में भर्ती होने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा.

राष्ट्रीय अंतरिम परिषद के नेता मुस्तफ़ा अब्दल जलील का कहना है कि कुशल व्यक्तियों और क़बाईली नेताओं का एक पैनेल बनाया जाएगा जो शांति और सामंजस्य स्थापित करने में मदद करेगा.

ये बातें जलील ने पेरिस में लीबिया के भविष्य पर विचार विमर्श के लिए बुलाई गई परिषद और 60 देशों के प्रतिनिधियों की बैठक से लौटने के बाद कहीं.

उन्होंने ये भी कहा है कि अगले हफ़्ते परिषद बेनगाज़ी से त्रिपोली में स्थानांतरित हो जाएगी.

बीबीसी के जर्मी ब्राउन का कहना है कि लीबिया अपने क्रांतिकारी हनीमून का जश्न मना रहा है हालांकि पूर्व नेता कर्नल गद्दाफ़ी अभी भी एनटीसी की पहुँच से बाहर हैं.

जबकि लीबिया के कई इलाके़ अभी भी उन सैनिकों के कब्ज़े में हैं जो कर्नल गद्दाफ़ी के वफ़ादार हैं.

एके-47 की भरमार

त्रिपोली में मौजूद बीबीसी संवाददाताओं के मुताबिक़ शहर की सड़कों पर अभी तमाम ऐसे बंदूकधारी युवा हैं जो गद्दाफ़ी के तख्तापलट के बाद सड़कों पर खुले आम घूम रहे हैं.

इसी बीच इन लड़ाकों को अपने-अपने घर भेजने के एनटीसी के प्रयास भी जारी बताए जा रहे हैं.

एनटीसी के सैन्य अधिकारी जनरल ओमर हरीरी के अनुसार इन लड़कों में इंजीनियर, डाक्टर, वकील और कई दूसरे व्यवसाय के लोग भी शामिल हैं जो आख़िरकार अपने काम पर लौट जाएंगे.

इस बात पर भी खासी चिंता जताई जा रही है कि राजधानी त्रिपोली और दूसरे शहरों में हथियारों की भरमार सी हो गई है.

त्रिपोली में मौजूद यूरोपीय संघ के एक वरिष्ठ सदस्य के मुताबिक़ 'सभी ने क्लाशनिकोव बंदूकें धारण की हुई हैं'.

हालांकि राजधानी में मौजूद एनटीसी के एक वरिष्ठ सदस्य ने बीबीसी को बताया कि वे इन बंदूकों की वजह से ज्यादा चिंतित नहीं हैं क्योंकि 'अभी भी कर्नल गद्दाफ़ी को खोज जारी है'.

इस बीच शुक्रवार को हज़ारों नागरिक, जिसमे महिलाएं भी शामिल थीं, त्रिपोली के बीच जमा हुए और उन्होंने लीबिया के अंतरिम नेताओं के प्रति अपना समर्थन जताया.

संबंधित समाचार