अल-क़ायदा के तीन सदस्य गिरफ़्तार

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption पाकिस्तानी सेना की ओर से जारी बयान में ऑपरेशन की तारीख का ज़िक्र नहीं है.

पाकिस्तान की ख़ुफिया एजेंसी आईएसआई ने अमरीकी ख़ुफिया एजेंसियों के साथ मिलकर एक संयुक्त ऑपरेशन में चरमपंथी संगठन अल-क़ायदा के तीन वरिष्ठ सदस्यों को गिरफ़्तार किया है.

पाकिस्तानी सेना की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि इस ऑपरेशन की योजना बनाने से लेकर इसे कार्यान्वित करने में अमरीकी ख़ुफिया एजेंसियों ने सहयोग दिया.

बयान में दी गई जानकारी के मुताबिक़ गिरफ़्तार किए गए लोगों में यूनिस-अल-मौरिशियानी सबसे वरिष्ठ सदस्य हैं.

सेना के मुताबिक़ अल-क़ायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन ने मौरिशियानी को ही पश्चिमी देशों के आर्थिक सरोकारों को निशाना बनाने की ज़िम्मेदारी दी थी.

बयान में ये तो बताया गया है कि ये ऑपरेशन पाकिस्तान के क्वेटा में हुआ लेकिन इसकी तारीख़ का कोई ज़िक्र नहीं है.

पाकिस्तान की ख़ुफिया एजेंसी आईएसआई पिछले दस साल से अमरीकी सुरक्षा एजेंसी सीआईए के साथ काम करती आई है लेकिन इस तरह का साझा बयान असामान्य है.

बयान के मुताबिक, “पाकिस्तान और अमरीका की खुफिया एजेंसियों के बीच एक मज़बूत और ऐतिहासिक रिश्ता है, दोनों देशों की एजेंसियाँ अपने-अपने देशों की सुरक्षा के लिए एक साथ सहयोग बनाकर काम करती रहेंगी.”

संबंध

पिछले कुछ समय में दोनों एजेंसियों के बीच रिश्तों में कुछ खटास भी आई है.

इसकी वजह पाकिस्तान में हो रहे सीआईए के ड्रोन हमले और अल-क़ायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन को मारने का अमरीका का ख़ुफिया ऑपरेशन माने जाते हैं.

ग़ौरतलब है कि अमरीका ने कुछ दिन पहले पाकिस्तान को 80 करोड़ डॉलर की सैनिक सहायता रोकने की घोषणा की थी.

इसके फौरन बाद पिछले महीने आईएसआई प्रमुख लेफ़्टीनेंट जनरल अहमद शुजा पाशा अमरीका के वरिष्ठ सैन्य अधिकारी जेम्स मेटिस के साथ इस्लामाबाद में मिले और उसके बाद अमरीका के वरिष्ठ सैन्य और गुप्तचर विभान के अधिकारियों से मिलने अमरीका भी गए.

ऐबटाबाद में दो मई को अल क़ायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन के ख़िलाफ़ हुई अमरीकी सैनिकों की कार्रवाई के बाद जनरल शुजा पाशा की यह पहली अमरीका यात्रा थी.

पाशा की यात्रा के बाद अमरीकी अधिकारियों ने पाकिस्तानी और अमरीकी गुप्तचर विभागों के प्रमुख के बीच मुलाक़ातों को सकारात्मक बताया जबकि पाकिस्तानी अधिकारियों का कहना था कि इस दौरे ने संबंधों को सामान्य कर दिया है.

संबंधित समाचार