दिल्ली धमाके की जांच में पांच व्यक्ति हिरासत में

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

बुधवार को दिल्ली में हाई कोर्ट के सामने हुए धमाकों की ज़िम्मेदारी लेते हुए एक ईमेल के चलते भारत प्रशासित कश्मीर के किश्तवाड़ में पुलिस ने एक सायबर कैफे़ मालिक समेत पांच लोगों को हिरासत में लिया है.

सायबर कैफे़ के मैलिक का नाम ख्वाजा महमूद अज़ीज़ है जबकि उनके भाई ख्वाजा ख़ालिद जो एक मोबाईल की दुकान चलाते हैं उन्हें भी हिरासत में लिया गया है.

गिरफ़्तार किए गए तीन और व्यक्तियों में से एक सायबर कैफे़ के मैनेजर अश्विनी कुमार हैं जबकि स्थानीय कॉलेज में पढने वाले दो और छात्रों को हिरासत में लिया गया है.

उधर राज्य के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्लाह ने कहा है कि राज्य प्रशासन को इस मामले में कुछ सुराग मिले हैं जिन्हें राष्ट्रीय जांच एजेंसी के साथ बांटा जा रहा है.

इस बीच दिल्ली में बुधवार को हुए विस्फोट में मृतकों की तादाद बढ़ कर 12 तक पहुंच गई है साथ ही 75 लोग घायल बताए जा रहे हैं. कल विस्फो़ट के बाद सुरक्षा एजेंसियों को एक ई मेल प्राप्त हुआ था जिसमे तथाकथित रूप से हरकत उल जेहाद उल इस्लामी इन धमाकों की ज़िम्मेदारी ली थी. श्रीनगर में मौजूद बीबीसी संवाददता रियाज़ मसरूर के अनुसार यह ईमेल दक्षिण कश्मीर में स्थित किश्तवाड़ के मुख्य बाज़ार में मौजूद एक सायबर कैफे से भेजा जाना पाया गया है.

‘कोई रिकॉर्ड नहीं’

किश्तवाड़ के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बीबीसी संवादाता को बताया कि सायबर कैफे के मालिक महमूद अजीज़ को इसलिए हिरासत में लिया गया है क्योंकि उसने अपने यहाँ आने जाने वालों का कोई रिकॉर्ड नहीं रखा था.

क़ानूनन हर सायबर कैफे मालिक को अपने यहाँ आने-जाने वालों के फ़ोटो पहचान पत्र व अन्य ज़रूरी जानकारियों का लेखा-जोखा रखना ज़रूरी होता है. महमूद अजीज़ ने शुरूआती पूछताछ के दौरान जांचकर्ताओं को बताया कि उसके यहाँ आम तौर पर नज़दीक के एक कॉलेज के छात्र आते हैं.

एक पुलिस अधिकारी ने बीबीसी को बताया “ जिस आई पी एड्रेस से ई मेल भेजा गया था वो इस इंटरनेट कैफे के छह में से एक कंप्यूटर का है. यह मेल बुधवार दोपहर को 2 से 3 बजे के बीच भेजा गया था."

पुलिस हिरासत में महमूद अजीज़ से पूछताछ जारी है. भारत प्रशासित जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक कुलदीप खुड्डा भी किश्तवाड़ के रास्ते पर हैं.

'फ़ॉरेंसिक रिपोर्ट आज'

केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम के अनुसार गुरुवार को दिल्ली धमाके की विस्तृत फॉरेंसिक रिपोर्ट आ जाएगी.

चिदंबरम ने यह भी बताया, "इस मामले की जांच कर रही राष्ट्रिय जांच एजेंसी ने 20 लोगों की एक मुख्य टीम के अलावा 17 अधिकारीयों की एक सहयोगी टीम भी बनाई है. दिल्ली पुलिस भी इन सब के अलावा राष्ट्रिय जांच एजेंसी की पूरी मदद कर रही है और जांच में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है."

केंद्रीय गृह मंत्री के अनुसार दिल्ली के अस्पतालों में भर्ती 75 घायलों की पूरी मदद की जा रही है.

संबंधित समाचार