गद्दाफ़ी समर्थकों ने रॉकेट दाग़े

कर्नल गद्दाफ़ी इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption गद्दाफ़ी समर्थक अभी भी आत्म-समर्पण करने को तैयार नहीं दिखते

लीबिया में कर्नल गद्दाफ़ी के वफ़ादार सैनिकों ने बनी वलीद शहर से विद्रोहियों पर रॉकेट दाग़े हैं. लीबिया के चार शहरों पर अभी भी गद्दाफ़ी के समर्थकों का नियंत्रण है और उनके आत्मसमर्पण करने की समय सीमा धीरे-धीरे क़रीब आ रही है.

विद्रोहियों ने बनी वलीद और सियर्त शहर में एकत्रित गद्दाफ़ी समर्थकों को शनिवार तक आत्मसमर्पण करने का समय दिया है.

सियर्त शहर में ही गद्दाफ़ी का जन्म हुआ था और ये उनका मज़बूत गढ़ माना जाता है.

बनी वलीद के निकट स्थित बीबीसी संवाददाता रिचर्ड गैलपिन के अनुसार गद्दाफ़ी समर्थकों ने विद्रोहियों पर लगभग दस रॉकेट दाग़े.

गैलपिन के मुताबिक़ रॉकेट दाग़े जाने के बाद आसमान में नैटो के विमानों की आवाज़ें सुनाई देने लगीं जो ये पता लगाने की कोशिश कर रहे थे कि रॉकेट कहां से दाग़े गए हैं.

बीती रात बनी वलीद के क़रीब गद्दाफ़ी समर्थकों और विद्रोहियों के बीच हिंसक झड़पें हुई थीं जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी और कई घायल हो गए थे.

'हालात तनावपूर्ण'

बीबीसी संवाददाता ने बताया कि जैसे-जैसे गद्दाफ़ी समर्थकों के आत्म-समर्पण करने की समय सीमा क़रीब आती जा रही है वैसे-वैसे हालात और तनावपूर्ण होते जा रहे हैं.

विद्रोहियों का दावा है कि उन्होंने शहर को पूरी तरह से घेर लिया है लेकिन विद्रोहियों की तरफ़ से मुख्य वार्ताकार अब्दुल्लाह किनशिल ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए विश्वास जताया कि शांतिपूर्ण तरीक़े से समाधान निकालने के लिए अभी भी समय है.

किनशिल के अनुसार गद्दाफ़ी के दो वरिष्ठ समर्थकों ने गुरूवार को अपना पाला बदल लिया और वे दोनों गद्दाफ़ी को छोड़ विद्रोहियों के साथ हो गए हैं.

किनशिल ने बताया कि शहर में मानवीय संकट बढ़ता जा रहा है क्योंकि शहर में खाद्य सामग्री, दवाओं और रसोई गैस की काफ़ी कमी हो गई है.

अब्दुल्लाह किनशिल के अनुसार लोग चाहते हैं कि ये संकट जल्द से जल्द ख़त्म हो.

लेकिन उन्होंने इस संभावना से इनकार कर दिया कि गद्दाफ़ी समर्थकों को आत्म-समर्पण करने के लिए और अधिक समय दिया जा सकता है.

किनशिल के अनुसार विशेष तौर पर कर्नल गद्दाफ़ी के नए संदेश के बाद जिसमें उन्होंने अपने समर्थकों से लड़ाई जारी रखने की अपील की थी, विद्रोही गद्दाफ़ी समर्थकों को आत्म-समर्पण करने के लिए और समय देने को तैयार नहीं हैं.

संबंधित समाचार