कीनिया: पाइपलाइन विस्फोट, 120 लोगों की मौत

नैरोबी धमाका इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption आग की तेज़ लपटों को बुझाने की कोशिश में कई लोग पास के नाले में कूद पडे़.

कीनिया की राजधानी नैरोबी की एक झोपड़पट्टी के पास से गुज़रनेवाले तेल पाइपलाइन में हुए विस्फोट में कम से कम 120 लोगों की मौत हो गई है.

आग की लपटों ने झोपड़ी में रह रहे लोगों को अपनी चपेट में ले लिया और वो देखते-देखते राख हो गए.

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि लोग नाले के पास से जा रही पाइपलाइन में हुई लीक से तेल जमा कर रहे थे कि तभी विस्फोट हो गया.

एक स्थानीय अधिकारी ने बताया है कि 160 लोगों को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है और मरनेवालों की तादाद में इज़ाफ़ा हो सकता है.

प्रधानमंत्री राइला ओडिंगा ने लोगों से शांति की अपील की है और वादा किया है कि मृत्कों के परिवार वालों को मुआवज़ा दिया जाएगा.

कीनिया के टीवी चैनेलों पर कई वैसे लोगों की तस्वीरें दिखाई जा रही हैं जो बच तो गए हैं लेकिन उनके शरीर के कई हिस्सों का बुरी तरह झुलसा मांस हड्डियों या मांसपेशियों से अलग होकर बदन के दूसरे हिस्सों पर लटक रहा है.

अग्निशमन दल के लोग आग बुझाने में लगे हैं. पुलिस और सेना ने इलाक़े को पूरी तरह घेर लिया है.

एंबुलेस सेवा के एक प्रवक्ता का कहना था कि कई लोग इतनी बुरी तरह जले हैं कि उन्हें पहचानना मुश्किल हो रहा है.

कारण

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption पाइपलाइन एक झोपड़पट्टी के पास से होकर गुज़रती थी.

अभी तक विस्फोट के कारणों का पता नहीं चल पाया है.

समाचार एजेंसी एएफपी ने एक स्थानीय निवासी जोसेफ मवेगो के हवाले से कहा, ''बहुत ज़ोर का धमाका हुआ था. आग और धुआं निकल रहा था. आवाज़ भी बहुत तेज़ आई थी. ''

मरने वालों के बारे में और जानकारियां धीरे धीरे सामने आ रही हैं.

कई शव पास ही बहने वाली नदी में देखे गए हैं. बताया जा रहा है कि कई लोग आग लगने के बाद नदी में कूद गए थे.

कीनिया में पाइपलाइनों में विस्फोट की बात नई नहीं है. इससे पहले भी कई बार फटे पाइपों से तेल जमा करने के लिए पहुंचे लोग धमाकों में मारे गए हैं.

इससे पहले कीनिया के मोल शहर में वर्ष 2009 में तेल टैंकर गिरा था जिससे तेल जमा करने सैकड़ो लोग पहुंच गए थे. कुछ ही देर में टैंकर में धमाका हो गया जिसमें सौ लोग मारे गए थे.

संबंधित समाचार