इतिहास के पन्नों से

 बुधवार, 14 सितंबर, 2011 को 11:33 IST तक के समाचार

इतिहास में 14 सितंबर को कई महत्वपूर्ण घटनाएं घटीं. इसी दिन सोवियत संघ ने ब्रिटेन के 25 राजनयिकों को जासूसी के आरोप में फ़ौरन देश छोड़ने का आदेश दिया था. इसी दिन हॉलीवुड की हिरोइन ग्रेस केली का निधन हुआ था.

1985: सोवियत संघ ने 25 ब्रितानी राजनयिक निकाले

ऑलेग गोरडेविस्की (फ़ाईल फ़ोटो)

इस घटना ने सोवियत संघ और ब्रिटेने के रिश्तों में काफ़ी खिचाव ला दिया था.

ब्रिटेन का पूर्व सोवियत संघ के 25 राजनयिकों को जासूसी के आरोप में देश छोड़ने का आदेश देने के बाद जैसे को तैसा की नीति अपनाते हुए सोवियत संघ ने भी रूस में कार्यरत 25 ब्रितानी राजनयिकों को फ़ौरन देश छोड़ने का आदेश जारी कर दिया.

सोवियत संघ की ख़ुफ़िया एजेंसी केजीबी के तत्कालीन प्रमुख ऑलेग गौरडेविस्की के पाला बदलकर पश्चिमी देशों के साथ हाथ मिला लेने के बाद ये घटनाएं हुईं.

ऑलेग ने ब्रितानी ख़ुफ़िया एजेंसी को ब्रिटेन में काम कर रहे रूसी जासूसों के बारे में कई महत्वपूर्व और गोपनीए ख़बरें दीं.

उस समय ब्रिटेन के विदेश मंत्री रहे सर जैफ़्री होव ने केजीबी के इतने बड़े अधिकारी के पाला बदलने को ब्रिटेन की सुरक्षा एजेंसियों के लिए अप्रत्याशित सफलता क़रार दिया था.

विदेश विभाग के अनुसार ऑलेग गौरडेविस्की 1966 से ही डबल एजेंट के तौर पर काम कर रहे थे.

सोवियत संघ ने 1982 में ऑलेग को रूसी दूतावास में काउंसेलर के पद पर नियुक्त कर लंदन भेजा. ऑलेग तभी से ब्रितानी ख़ुफ़िया एजेंसी एमआई 5 के लिए काम करने लगे थे.

ऑलेग की जानकारी के बाद जब ब्रिटेन ने 25 रूसी राजनयिकों को देश छोड़ने का आदेश दिया तब वे जानते थे कि सोवियत संघ भी बदले की कार्रवाई करेगा लेकिन कार्रवाई इतनी जल्दी और सख़्त होगी इसका अंदाज़ा नहीं था.

दो दिनों के बाद ब्रिटेन ने फिर छह रूसी राजनयिकों को देश छोड़ने का आदेश दिया. सोवियत संघ ने भी छह ब्रितानी राजनयिकों को देश से चले जाने के लिए कहा.

आख़िरकार 18 सिंतबर को ब्रितानी प्रधानमंत्री मार्ग्रेट थैचर ने एक दूसरे के राजनयिकों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने की प्रक्रिया ख़त्म करने की घोषणा की.

1982: हॉलीवुड के हिरोइन ग्रेस केली का निधन

ग्रेस केली (फ़ाईल फो़टो)

कार का ब्रेक फ़ेल होने के कारण उन्होंने अपना नियंत्रण खो दिया था.

हॉलीवुड की जानीमानी हिरोइन और मोनाको की राजकुमारी ग्रेस केली की मॉटे कार्लो में एक कार दुर्घटना में मौत हो गई थी.

ग्रेस केली ख़ुद कार चला रहीं थी और दुर्घटना के समय उनकी सबसे छोटी बेटी स्टीफ़ानी भी उनके साथ थीं लेकिन उन्हें बहुत मामूली चोट आई.

केली की मौत की ख़बर ने लोगों को चौंका दिया था क्योंकि उनकी कार के ऐक्सीडेंट के बाद भी राजमहल से जारी बयान में कहा गया था कि उनकी पसली की हड्डी और पैरों के टूटने के बावजूद उनकी हालत स्थिर थीं और वो ख़तरे से बाहर बताई गईं थीं.

ग्रेस केली ने डायल एम फॉर मर्डर और रियर विंडो नामक फ़िल्मों मे काम किया था.

1960: कॉगो में सेना ने तख़्ता पलट किया

अफ़्रीक़ी देश कॉगों में सेना ने तख़्ता पलट कर सत्ता पर क़ब्जा़ कर लिया था जिसके बाद पूर देश में हिंसा फैल गई थी.

कॉगों की स्वतंत्रता के केवल 10 हफ़्ते बाद ही सेना ने सत्ता अपने हाथ में ले ली थी.

इसकी घोषणा करते हुए सेना के प्रमुख कर्नल जॉसेफ़ मोबूतो ने कहा था कि उन्होंने दोनों प्रतिद्वंदी प्रधानमंत्रियों और राष्ट्रपति जॉसेफ़ कसावुबु को हालात क़ाबू में आने तक के लिए निलंबित कर दिया है.

इसके बाद दक्षिणी प्रांत कटांग में हिंसा भड़क गई थी जिसमें कम से कम 70 लोग मारे गए थे.

इसी विषय पर अन्य ख़बरें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.