घाटा घटाने के लिए ओबामा टैक्स बढ़ाएंगे

राष्ट्रपति बराक ओबामा इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption ओबामा चाहते है कि तीन खरब अमरीकी डॉलर के घाटे पर किसी तरह काबू पाया जा सके.

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा घाटे को कम करने के लिए सोमवार को योजनाओं की विस्तार से जानकारी देने वाले हैं.

ओबामा चाहते है कि अगले एक दशक में तीन ख़रब अमरीकी डॉलर के घाटे पर किसी तरह काबू पाया जा सके.

राष्ट्रपति भवन के प्रवक्ता का कहना है कि उनकी योजनाओं में करों में बढ़ोत्तरी के प्रस्ताव शामिल है जिसके ज़रिए डेढ़ ख़रब डॉलर की आमदनी होगी.

राष्ट्रपति ऐसे लोगों के लिए एक न्यूनतम कर का प्रस्ताव रखने वाले हैं जिनकी सालाना आय प्रतिवर्ष दस लाख डॉलर से ज़्यादा है.

अधिकारियों का कहना है कि अगर धना़ड्य अमरीकियों पर अधिक कर नही लगाया जाता तो राष्ट्रपति वृद्घों को दी जाने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं में कटौती के लिए तैयार नही होंगे.

स्वास्थ्य सुविधाओं में कटौती

रिपब्लिकन सांसद पहले ही कह चुके हैं कि वो करों में किसी भी तरह की वृद्धि का समर्थन नही करेंगें.

ओबामा की प्रस्तावित योजना में बुज़ुर्गों को दी जाने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं में 250 अरब डॉलर की कटौती शामिल है.

ओबामा प्रशासन के एक अधिकारी ने बताया कि राष्ट्रपति ऐसे किसी भी विधेयक पर वीटो का अधिकार रखते हैं जो करों में कटौती के हिसाब से अनुकूल न हो.

शनिवार को राष्ट्रपति भवन के अधिकारियों ने जानकारी दी थी कि ओबामा ऐसे लोगों के लिए एक नए न्यूनतम कर का प्रस्ताव रखेंगे जिनकी सालाना आय प्रतिवर्ष दस लाख डॉलर से ज़्यादा है.

ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि धना़ढ्य वर्ग कम से कम मध्यम वर्ग की जनता जितना टैक्स भरें.

वारेन बफ़ेट की शिकायत

अमरीका के अरबपति व्यवसायी वारेन बफ़ेट के नाम पर इस प्रस्ताव को बफ़ेट नियम कहा जा रहा है.

वारेन बफ़ेट की शिकायत है कि वो और उनके समृद्ध सहयोगी, उन लोगों की तुलना में कम टैक्स भरते हैं जो उनके लिए नौकरी करते हैं.

उनका कहना था कि करों के ढांचे में विसंगतियों के चलते धनाढ्य वर्ग के लोग अपेक्षाकृत कम टैक्स भरते हैं. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि निवेश से होने वाली आमदनी पर नौकरी से मिलने वाले वेतन की तुलना में कम टैक्स लगता है.

इस समय अमरीकी अर्थव्यवस्था मंदी के दौर से गुज़र रही है और बेरोज़गारी की दर नौ फ़ीसदी से ज़्यादा है.

अगले साल होने वाले चुनावों से पहले बराक ओबामा के सामने सबसे बड़ी चुनौती देश की अर्थव्यवस्था पटरी पर लाकर उसे स्थिरता प्रदान करने की है.

संबंधित समाचार