यमन में संघर्ष, कई मौतें

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption यमन में बड़ी संख्या में लोग राष्ट्रपति सालेह के ख़िलाफ़ सड़कों पर आ गए हैं.

यमन की राजधानी सना में राष्ट्रपति अली अब्दुल्ला सालेह के विरोध में प्रदर्शनों के दौरान हुए संघर्ष में कई लोग मारे गए हैं.

प्रदर्शनकारी शहर के बदलाव चौराहे पर प्रदर्शन के लिए जुटे थे जहां राष्ट्रपति के विरोधी और समर्थक सेनाओं के बीच हुए संघर्ष में कई लोगों के मारे जाने की ख़बर है.

अपुष्ट ख़बरों के अनुसार मारे जाने वालों की संख्या 40 के करीब बताई जा रही है.

राष्ट्रपति सालेह के सऊदी अरब से लौटने के बाद से ही यमन में फिर हिंसा शुरु हो गई है.

सना में राष्ट्रपति समर्थक रिपब्लिकन गार्ड्स का नेतृत्व राष्ट्रपति के पुत्र अहमद कर रहे हैं और वो राष्ट्रपति का विरोध कर रही सेना की टुकड़ियों को निशाना बना रहे हैं.

शनिवार को एक डॉक्टर मोहम्मद अल कबाती ने एएफपी को बताया कि कम से कम 28 प्रदर्शनकारी और एक सैनिक की गोलीबारी के दौरान मौत हुई है.

उन्होंने बताया कि कई लाशें सड़कों पर पड़ी हुई हैं और कई घायलों को मोटरसाइकिल पर अस्पताल लाया गया था.

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार चौराहे के पास कई इमारतों में आग लगा दी गई है.

रायटर्स ने चौराहे के पास रहने वाले एक निवासी के हवाले से बताया है कि सराकरी सेनाएं बख्तरबंद गाड़ियों और राइफल का इस्तेमाल कर रही हैं.

राजधानी सना के और कई हिस्सों से भी संघर्ष की ख़बरें हैं. विरोधी सैनिकों के अनुसार संघर्ष में 11 सैनिक मारे गए हैं.

सऊदी अरब ने एक बार फिर यमन के राष्ट्रपति से अपील की है कि वो सत्ता छोड़ें. उन्होंने यमन में हथियारों के इस्तेमाल की निंदा की है और कहा है कि निहत्थे प्रदर्शनकारियों पर बल प्रयोग उचित नहीं है.

संबंधित समाचार