'वॉल स्ट्रीट पर क़ब्ज़ा' मुहिम के गिरफ़्तार प्रदर्शनकारी रिहा

न्यूयार्क इमेज कॉपीरइट AP
Image caption रिहा किए गए एक प्रदर्शनकारी प्लास्टिक की हथकड़ी और अदालत के सम्मन लिए हुए

अमरीका के न्यूयॉर्क में पुलिस ने 700 से भी ज़्यादा गिरफ़्तार लोगों को रिहा कर दिया है.

ये लोग शनिवार को न्यूयार्क के वित्तीय इलाक़े में 'वॉल स्ट्रीट पर क़ब्ज़ा करो' मुहिम के तहत प्रदर्शन कर रहे थे. पुलिस ने तभी उन लोगों को ब्रुकलीन ब्रिज के पास से गिरफ़्तार किया था.

लेकिन अभी भी 200 लोग पुलिस की हिरासत में हैं क्योंकि अभी उनकी पहचान होनी बाक़ी है.

पुलिस ने रिहा किए गए लोगों को उत्पात मचाने का प्रमाण पत्र और अदालत का सम्मन भी दिया.

लेकिन इस मुहिम के संचालकों का कहना है कि वे अपना प्रदर्शन जारी रखेंगे.

मुहिम में शामिल लोग पिछले दो हफ़्तो से अमरीकी समाज में लोगों की आमदनियों में बढ़ते फ़ासले, जिसे वो कॉरपोरेट के कथित लालच का नाम देते हैं, और बेरोज़गारी के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे हैं.

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि सरकार पूंजीपतियों के हितों का ज़्यादा ध्यान रख रही है.

कुछ जगहों पर इसे पूंजीवादी व्यवस्था के विरोधियों का एक गठबंधन भी बताया जा रहा है.

अधिकारियों का कहना है कि शनिवार सुबह लोग प्रदर्शन स्थल के पास से गुज़र रहे एक पुल पर खड़े होकर वाहनों की आवाजाही में बाधा पहुंचाने की कोशिश कर रहे थे.

पुलिस

प्रदर्शनकारियों के मुताबिक़ पुलिस ने पहले से ही सड़क पर रूकावटें लगा दीं थीं और जाल के साथ वो उन्हें गिरफ़्तार करने के लिए तैयार बैठे थे.

इनमें से कई के ख़िलाफ़ उत्पाती व्यवहार और पुलिस के काम में बाधा डालने का मुक़दमा चल सकता है.

हालांकि प्रदर्शनकारियों की तादाद बहुत अधिक नहीं थी लेकिन पुलिस उनके साथ सख़्त रवैया अपना रही थी.

इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES
Image caption अमरीका से दो साल पहले शुरू हुई मंदी वहां के बड़े बैंको की ग़लत नीतियों का अंजाम थीं.

पिछले हफ़्ते एक विडियो फुटेज में एक पुलिसकर्मी को प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ पेप्पर स्प्रे (जिससे आंखों में जलन होती है) का इस्तेमाल करते दिखाया गया था जिसके बाद विरोधों में और तेज़ी आ गई है.

बदलाव का संकेत

कई मज़दूर संगठनों ने इस मुहिम को अपना समर्थन देने की घोषणा की है.

बीबीसी संवाददाता जेम्स रीड का कहना है कि हालांकि इसे मिस्र के तहरीर चौराहे जैसी क्रांति नहीं क़रार दिया जा सकता है लेकिन अमरीकी पूंजीवाद के केंद्र - वॉल स्ट्रीट पर हो रहा ये प्रदर्शन इस बात का संकेत है कि आर्थिक मंदी किस तरह अमरीका में बदलाव ला रहा है.

हाल के दिनों में इस तरह के हुए कई प्रदर्शनों में से एक है.

इसी तरह के प्रदर्शन अमरीका के दूसरे शहरों बोस्टन, शिकागो और सन फ्रांसिसको में भी आयोजित किए गए हैं.

संबंधित समाचार