गद्दाफ़ी के गढ़ से भाग रहे हैं हज़ारों नागरिक

सिर्त इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सिर्त और बनी वलीद अभी भी ग़द्दाफ़ी समर्थकों के क़ब्ज़े में है लेकिन उनपर भारी दबाव है.

कर्नल गद्दाफ़ी समर्थक सैनिकों और अंतरिम सरकार की फ़ौज के मध्य हुए अस्थाई युद्धविराम के बीच, हज़ारों नागरिक सिर्त शहर छोड़कर भाग रहे हैं.

लीबिया का शहर सिर्त उन चंद जगहों में से एक है जो अब भी देश के पूर्व शासक गद्दाफ़ी के समर्थकों के क़ब्ज़े में हैं.

हालांकि उस पर कब्ज़े के लिए दोनों तरफ़ की फ़ौजों के बीच लड़ाई जारी है जिसका असर आम लोगों की ज़िंदगी पर पड़ रहा है.

अंतरिम सरकार की फ़ौजों ने सिर्त को हफ़्तों से घेर रखा है मगर उन्हें गद्दाफ़ी के वफ़ादारों से कड़ी टक्कर का सामना करना पड़ रहा है.

तांता

बीबीसी संवाददाता जोनाथन हेड का कहना है कि अपने साज़-सामान को गाड़ियों में लादे लोगों का शहर के बाहर जाने वाली सड़क पर आने का सिलसिला जारी है.

उनके मुताबिक़ इनमें से काफ़ी लोग थके, घबराए और डरे हुए हैं.

बच्चे और बूढ़े कार या ट्रकों की पिछली सीटों पर बैठे हुए हैं और डरे हुए ये लोग किसी से बात करने को तैयार नहीं.

सड़क पर लगाई गई रुकावटों के पास खड़े अंतरिम सरकार के लोग गाड़ियों की तलाशी ले रहे हैं, लोगों को पेट्रोल के कुछ लीटर मुहैया करवाए जा रहे हैं और फिर उन्हें उनकी राह जाने दिया जा रहा है.

हफ़्तों से बंदूकों और तोपों के गोले झेल रहे सिर्त में ईंधन की कमी है और जैसे ही शहर के बाहर तेल का कोई टैंकर नज़र आता है लोग उसके इर्द-गिर्द भीड़ लगा देते हैं लेकिन उनके हाथ कुछ लीटर से ज़्यादा नहीं आता.

इस्माइल कहते हैं, "मैं समझ नहीं पा रहा हूँ कि क्या हो रहा है? हमारे घर के आस-पास गोलियां और बम फट रहे थे. हमें शहर छोड़ना पड़ा."

रेड क्रॉस ने हाल में ही कहा था कि सिर्त में हालात इतने ख़राब हैं कि अस्पतालों में ऑक्सीजन और ज़रूरी दवाओं की कमी से लोगों की मौत हो रही है. शहर में ज़रूरत के दूसरे सामानों की भी भारी कमी है.

अंतिम चरण

सिर्त छोड़कर भागने वाले अधिकतर लोग गद्दाफ़ी समर्थक हैं.

इनके शहर छोड़ने से अंतरिम सरकार के फ़ौजी कमांडर ये उम्मीद कर रहे हैं कि शहर जल्द ही उनके क़ब्ज़े में होगा.

मगर उनका कहना है कि नैटो सेना ने उन्हें पीछे रहने को कहा है.

ऊपर आकाश में नैटो के लड़ाकू विमान चक्कर काट रहे हैं और ऐसा लग रहा है कि सिर्त पर कब्ज़े की लड़ाई अपने अंतिम क्षणों में है.

संबंधित समाचार