सीरिया: कुर्द नेता की हत्या पर कड़ी प्रतिक्रिया

सीरिया में एक नक़ाबपोश बंदूकधारी द्वारा के प्रमुख विपक्षी नेता मेशाल तामो की हत्या की अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने निंदा की है.

फ्रांस ने कहा है कि वो कुर्द मूल के नेता मेशाल तामो की हत्या से सकते में है.

वहीं अमरीका ने इस घटना के लिए सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल-असद को ज़िम्मेदार ठहराते हुए चेतावनी दी कि वो सीरिया को ‘ख़तरे के रास्ते’ पर ले जा रहे हैं.

व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जे कार्ने ने इस घटना के बाद राष्ट्रपति असद से सत्ता छोड़ने की अपील की है.

समाचार एजेंसी एएफ़पी के हवाले से उन्होंने कहा, ''मेशाल तामो की हत्या और सीरिया के प्रमुख सामाजिक कार्यकर्ता की पिटाई से ये ज़ाहिर होता है कि सीरियाई सरकार की ओर से किए गए बातचीत शुरु करने और सुधार लागू करने के दावे कितने खोखले हैं.''

उन्होंने कहा कि अमरीका शांत रुप से प्रदर्शन कर रहे लोगों के खिलाफ़ हिंसा की निंदा करता है और सीरिया के लोगों के साथ खड़ा है.

53 वर्षीय मेशाल तामो सीरिया के प्रमुख विपक्षी नेता थे और सीरिया में दलों की ओर से बनाई गई सीरियन इंटरनेशनल काउंसिल के सदस्य थे.

चार नक़ाबपोश बंदूकधारियों ने तामो के घर में घुसकर उनकी हत्या कर दी.

कुर्दी मूल के लोग सीरिया में अल्पसंख्यक समुदाय के रुप में रहते हैं.

इस बीच अमरीकी गृह मंत्रालय ने सीरिया को लेकर रुस के राष्ट्रपति दिमित्रि मेदवदेव की ओर से दिए गए बयान को बेहद सकारात्मक बताते हुए उसका स्वागत किया है.

रुस के राष्ट्रपति ने शुक्रवार को कहा था कि असद या तो सुधार लागू करें या जल्द से जल्द से इस्तीफ़ा दे दें.

ग़ौरतलब है कि सीरिया के ख़िलाफ़ कार्रवाई वाले संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव को रूस और चीन की ओर से वीटो किया गया था.

जहाँ रूस ने प्रतिबंधों की धमकी पर आपत्ति जताई वहीं चीन ने सीरिया के आंतरिक मामलों में दख़ल देने पर एतराज़ जताया.

इस फैसले पर फ़्रांस, ब्रिटेन और अमरीका ने इस कड़ी नाराज़गी जताई थी.

सीरिया में इस साल मार्च से सरकार विरोधी प्रदर्शन हो रहे हैं और प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति बशर अल असद के इस्तीफ़े और व्यापक राजनीतिक सुधारों की मांग कर रहे हैं.

वहाँ भीषण प्रदर्शनों के दौरान सुरक्षा बलों की तरफ़ से बल प्रयोग भी हुआ है और सैकड़ों लोग मारे गए हैं.

संबंधित समाचार