त्रिपोली हुआ शांत, सिर्त में भीषण जंग जारी

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption त्रिपोली में गालीबारी बंद हो गई है लेकिन गद्दाफ़ी विरोधियों का छानबीन अभियान जारी है

लीबिया की राजधानी त्रिपोली में गद्दाफ़ी समर्थकों और विरोधियों के बीच भीषण गोलीबारी ख़त्म हो गई है लेकिन सिर्त शहर के केंद्रीय भाग में अब भी गद्दाफ़ी समर्थक डटे हुए हैं.

मिस्र और ट्यूनिशिया में फ़रवरी में हुए सरकार विरोधी प्रदर्शनों और सत्ता परिवर्तन के बाद लीबिया में भी व्यापक सरकार विरोधी प्रदर्शन हुए थे जिन्होंने विद्रोह की शक़्ल ले ली थी.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की ओर से लीबिया पर 'नो फ़्लाई ज़ोन' कायम करने और फिर हवाई हमलों से गद्दाफ़ी विरोधी ताकतों को बल मिला था और फिर उन्होंने राजधानी त्रिपोली पर भी कब्ज़ा कर लिया था.

फ़िलहाल कर्नल गद्दाफ़ी का कोई अतापता नहीं है लेकिन कुछ इलाक़ों को छोड़कर अधिकतर जगहों पर गद्दाफ़ी विरोधियों का नियंत्रण है.

सिर्त में गोलाबारी, त्रिपोली हुआ शांत

गद्दाफ़ी के गृह नगर सिर्त में गद्दाफ़ी विरोधियों की राष्ट्री अंतरिम परिषद के लड़ाकों को भीषण विरोध का सामना करना पड़ा है और कुछ इलाक़ों में अब भी गद्दाफ़ी समर्थक डटे हुए हैं.

सिर्त से बीबीसी संवाददाता वाइरी डेविस का कहना है, "सिर्त में इतना भयंकर युद्ध और तबाही हो रही है कि गद्दाफ़ी समर्थकों की संख्या का अंदाज़ा लगाना मुश्किल है. मौत का सामना कर रहे इन लड़ाकों के हौसले का कम नहीं आंकना चाहिए क्योंकि गद्दाफ़ी विरोधियों के पास उनसे कहीं ज़्यादा और आधुनिक हथियार और गोला-बारूद हैं."

लेकिन चिंता का विषय यह है कि हज़ारों आम नागरिकों का क्या हुआ है जो इस लड़ाई में फँसे हुए हैं.

घाना से आए के कारखाने में काम करने वाले मेन्सा परिवार ने बताया, "हम कई दिनों तक अपने चार बच्चों के साथ अपने फ़्लैट में फँसे रहे. बच्चे भी लगातार चिल्लाते रहे - बम, बम, बम. जब वे बम फटने की आवाज़े सुनते थे तो वे चौंक जाते थे और उनमें एक दो महीने का बच्चा भी है."

उधर राजधानी त्रिपोली के एक इलाक़े में झड़पें हुई हैं.

एक प्रत्यक्षदर्शी ने बीबीसी को बताया कि लगभग 20 गद्दाफ़ी समर्थक एक-47 राइफ़लों से फ़ायरिंग करते हुए सड़कों पर आ गए और उन पर गद्दाफ़ी विरोधियों ने मशीनगनों से गोलाबारी शुरु कर दी.

त्रिपोली से बीबीसी संवाददाता केरोलिन होली का कहना है, "त्रिपोली में गद्दाफ़ी समर्थकों के एक प्रदर्शन के बाद झड़पें शुरु हो गईं. दोनों ओर से भीषण गोलीबारी हुई और स्थानीय अस्पताल के एक डॉक्टर ने बताया कि नौ लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं"

बीबीसी को मिली जानकारी के मुताबिक गोलीबारी अब ख़त्म हो गई है लेकिन राष्ट्रीय अंतरिम सरकार के लड़ाके अबू सालिम इलाक़े से गद्दाफ़ी समर्थकों को निकालने का अभियान चला रहे हैं.

बीबीसी संवाददाता के अनुसार कई अन्य शहरों में गद्दाफ़ी समर्थकों के गद्दाफ़ी सरकार का हरा झंडा फहराने की रिपोर्टें मिली हैं.

संबंधित समाचार