रिहा होने वाले क़ैदियों की सूची जारी

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अगले सप्ताह तक रिहा हो सकते हैं शालित

इसराइल ने उन लगभग पाँच सौ लोगों के नाम जारी किए हैं जिन्हें इसराइली सैनिक गिलाद शालित की रिहाई के बदले में छोड़ा जा रहा है.

वर्ष के अंत में और पाँच सौ फ़लस्तीनी बंदियों को इसराइली जेलों से रिहा किए जाने की संभावना है.

फ़लस्तीनी चरमपंथियों ने वर्ष 2006 में गज़ा पट्टी से युवा सैनिक गिलाद शालित का अपहरण कर लिया था, जब उनका अपहरण हुआ था तब वे 19 वर्ष के थे.

जिन फ़लस्तीनी क़ैदियों को रिहा किया जा रहा है उनमें से आधे से अधिक आजीवन कारावास की सज़ा काट रहे थे. इनमें से कई लोगों पर गंभीर हमलों और हिंसक गतिविधियों में शामिल होने का आरोप था.

यही वजह है कि इसराइल में काफ़ी ऐसे लोग हैं जो इतने बड़े पैमाने पर हो रही रिहाई का विरोध कर रहे हैं, इनमें ऐसे लोग भी शामिल हैं जिनके रिश्तेदार उन चरमपंथी हमलों में मारे गए जिनके लिए इन लोगों को ज़िम्मेदार माना जाता है.

नेतनेया शहर में एक होटल पर हुए एक बम हमले में मारे गए लोगों के रिश्तेदारों ने पहले ही इस सामूहिक रिहाई के ख़िलाफ़ हाइकोर्ट में अपील की है लेकिन ज्यादातर जानकारों का मानना है कि अदालत उनकी अपील को ठुकरा देगी.

दूसरी ओर ऐसे लोगों की भी कमी नहीं है जो इस समझौते को सही मान रहे हैं, इसराइल में एक टीवी चैनल के जनमत संग्रह के मुताबिक़ अधिकतर लोग शालित की रिहाई के लिए समझौते के पक्ष में हैं.

इसराइल की सरकार ने इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ अपील करने के लिए लोगों को 48 घंटे का समय दिया है उसके बाद ही फ़लस्तीनी क़ैदियों की रिहाई होगी लेकिन उनकी रिहाई की तैयारियाँ शुरु हो गई हैं, उन्हें दो जेलों में जमा किया जा रहा है जहाँ से उन्हें रिहा किया जाना है.

ज़ाहिर है फ़लस्तीनी लोग इस फ़ैसले से ख़ुश हैं.

जो फ़लस्तीनी क़ैदी कई मामलों में आजीवन कारावास की सज़ा काट रहे हैं उन्हें रिहा तो किया जाएगा लेकिन वे पश्चिमी तट नहीं लौट सकेंगे, उन्हें या तो गज़ा पट्टी जाना होगा या किसी पड़ोसी देश में शरण लेनी होगी.

कई बड़े फ़लस्तीनी चरमपंथी नेता इस सूची में नहीं है, उनकी रिहाई की हमास की माँग को इसराइल ने ठुकरा दिया है, इनमें मरवान बरग़ूती, अब्दुल्ला बरग़ूती और अहमद सदात शामिल हैं.

फ़लस्तीनी संगठन हमास और इसराइली सरकार के बीच चल रही बातचीत में अगर कोई बड़ी बाधा नहीं आई तो अगले सप्ताह तो गिलात शालित अपने घर पहुँच जाएँगे.

संबंधित समाचार