कर्नल गद्दाफ़ी मारे गए हैं: लीबियाई प्रधानमंत्री

इमेज कॉपीरइट Reuters

लीबिया के प्रधानमत्री महमूद जिबरील ने घोषणा की है कि 41 साल तक लीबिया पर शासन करने वाले कर्नल गद्दाफ़ी मारे गए हैं.

लीबियाई अंतरिम परिषद का कहना था कि पहले गद्दाफ़ी अपने गृह नगर सिर्त में लड़ाई के दौरान घायल हो गए थे और फिर उन्होंने दम तोड़ दिया.

टीवी चैनलों ने ख़ून से लथपथ एक शव दिखाया है जिसमें दिखाई देने वाले व्यक्ति की शक़्ल कर्नल गद्दाफ़ी से मिलती है.

लेकिन अब भी लीबियाई नेता के मारे जाने की असल कहानी स्पष्ट नहीं है. एक व्यक्ति ने बीबीसी के सामने दावा किया था कि 'एक पाइप में छिपे हुए गद्दाफ़ी को पकड़ा और उन्होंने जान की भीख मांगी थी.'

इस व्यक्ति का कहना था कि गद्दाफ़ी ने एक सोने की पिस्तौल भी दिखाई जो उसके अनुसार गद्दाफ़ी की थी.

उधर ये भी दावा किया गया है कि नैटो ने सिर्त पर गुरुवार सुबह भीषण गोलीबारी की थी

लंदन में लीबियाई राजदूत ने जब कर्नल गद्दाफ़ी के मारे जाने की घोषणा की तो उसके बाद ब्रिटेन के प्रधामत्री डेविड कैमरन संवाददाताओं के समक्ष आए और कहा कि 'ये दिन गद्दाफ़ी के कारनामों के कारण मारे गए लोगों को याद करने का है.'

ख़ून से लथपथ तस्वीर

समाचार एजेंसी एएफ़पी ने एक फ़ोटो जारी किया था जिसे गद्दाफ़ी का बताया गया था.

इस तस्वीर में जिस व्यक्ति को दिखाया गया वो घायल था और ख़ून से लथपथ था. किसी वीडियो कैमरे से ली गई इस तस्वीर में समय 12.23 का दिखाया गया है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption समाचार एजेंसी एएफी ने गद्दाफी की ये तस्वीर जारी की है.

इस बीच त्रिपोली और सिर्त में जश्न का माहौल बना हुआ है.

गद्दाफ़ी के बारे में ख़बर अंतरिम परिषद के गद्दाफ़ी के जन्म-स्थान सिर्त पर क़ब्ज़े की घोषणा के बाद आई.

ख़बरों के मुताबिक़ आख़िरी लड़ाई बृहस्पतिवार की सुबह करीब 90 मिनट तक चली.

सरकारी लड़ाकूओं और गद्दाफ़ी समर्थकों के बीच सिर्त में पिछले कई सप्ताहों से संघर्ष चल रहा था. लेकिन कुछ गद्दाफ़ी समर्थक दक्षिणी पूर्वी शहर बनी वालिद में अब भी हथियार डालने को तैयार नहीं हैं.

पुत्रों की स्पष्ट ख़बर नहीं

लीबियाई प्रधानमंत्री के कर्नल गद्दाफ़ी के मारे जाने की घोषणा के बावजूद फ़िलहाल ये स्पष्ट नहीं है कि गद्दाफ़ी के दो पुत्रों - सैफ़ अल-इस्लाम और मोत्तसिम का क्या हुआ है.

सिर्त से आ रही ख़बरों के मुताबिक सैफ़ ने एक वाहनों के काफ़िले में सिर्त से भागने की कोशिश की है लेकिन गद्दाफ़ी विरोधियों ने उन्हें घेर लिया है.

इससे पहले ख़बरें आई थीं कि राष्ट्रीय अंतरिम परिषद के लड़ाकों ने मोत्तसिम को पकड़ लिया है जो घायल है. लेकिन परिषद के एक अधिकारी ने कहा कि वे मारे गए हैं.

संबंधित समाचार