तुर्की भूकंप से मरनेवालो की संख्या 370

तुर्की में भूकंप इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption रविवार में आए 7.2 की तीव्रता वाले भूकंप के बाद तुर्की में अभी तक क़रीब 200 झटके आ चुके हैं

तुर्की में रविवार को आए भयंकर भूकंप के बाद बचाव कार्यों में लगे राहतकर्मियों के मुताबिक़ मरनेवालों की संख्या 370 तक जा पहुँची है.

देश में आपदा प्रबंधन और आपातकालीन व्यवस्था के लिए ज़िम्मेदार एजेंसी ने कहा है कि 7.2 की तीव्रता वाले इस भूकंप में क़रीब 1300 लोग घायल हुए है.

तुर्की के पूर्व में स्थित शहर एरकिस में भी भूकंप के बाद से सैकड़ो लोग लापता है. एजेंसी ने कहा है कि मलबे के नीचे दबें लोगो के ज़िंदा बचे होने की उम्मीद कम है.

भयंकर आपदा के बाद भीषण ठंड झेल रहे तुर्की में पीड़ितों के लिए वहाँ की सरकार ने और बेहतर मदद पहुँचाने का वादा किया है.

राहत कार्य

सरकारी अधिकारियों के मुताबिक भूकंप प्रभावित शहर एरकिस और वैन में 12000 अतिरिक्त अस्थायी शरणार्थी शिविरों का निर्माण कराया जा रहा है.

राहतकर्मी भूकंप में गिरे मकानों के मलबे में दबे लोगो की ख़ोज में रात भर जुटे रहे.

मलबे को हटाने के लिए बड़े-बड़े क्रेनों और अन्य मशीनी उपकरणों का इस्तेमाल किया जा रहा है. भूकंप प्रभावित क्षेत्रो के निवासी भी बचाव कार्यों में भाग ले रहे है.

हालाँकि मलबे में दबे लोगो के बचने की उम्मीद काफ़ी कम बताई जा रही है. बीबीसी संवाददाता टिम विलकॉक्स के मुताबिक पिछले कई घंटों में राहतकर्मी किसी को भी मलबे से ज़िंदा नहीं निकाल पाए हैं.

विलकॉक्स ने कहा, "संभावना जताई जा रही है कि क़रीब 50 लोग अब भी मलबे में दबे हुए है."

सरकार ने आशंका जताई है कि मरनेवालों की संख्या और बढ़ सकती है.

बचावकार्यों की देख-रेख कर रहे तुर्की के उप प्रधानमंत्री बेसीर अटाले ने कहा कि तुर्की के लोगों को अब किसी चीज़ की कोई कमी नहीं होगी.

सरकार भूकंप प्रभावित इलाक़ों में लोगो को राहत पहुँचाने के लिए और ज़्यादा अस्पताल और रसोईघर अस्थायी तौर पर खोलने का कार्य कर रही है.

हालाँकि कुर्द में ज़िंदा बचे कुछ लोगो ने उन तक राहत नही पहुँचने की शिकायत की.

परेशानी

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption तुर्की के पूर्व में स्थित शहर एरकिस में भी भूकंप के बाद से सैकड़ो लोग लापता हैं

वैन से 50 किलोमीटर दूर स्थित हलकाली गाँव में रहनेवाले सेरिफ तराक़ी ने कहा, "केवल अस्थायी निवास काफ़ी नही है, हमारे पास ख़ाना नही है. कोई भी राहतकर्मी अभी तक हमारे पास नही पहुँचा है."

समाचार एजेंसी रॉयटर्स को दिए गए बयान में तुर्की के एक 40 वर्षीय व्यापारी ने कहा कि नायलॉन के बने तिरपाल बाज़ार में ब्लैक में बिक रहे हैं और लोग इन्हे ख़रीदने के लिए कतार में लगे है.

तुर्की में रविवार को स्थानीय समय एक बजकर 41 मिनट पर आए इस भूकंप की गहराई 20 किलोमीटर मापी गई. यूएस जियोलॉजिकल सर्वे के मुताबिक़ भूकंप का केंद्र तुर्की के पूर्व में स्थित शहर वैन था.

रविवार को आए 7.2 की तीव्रता वाले भूकंप के बाद तुर्की में अभी तक क़रीब 200 तेज़ झटके आ चुके हैं.

भूकंप के मामले में तुर्की भौगोलिक रूप से काफ़ी संवेदनशील रहा है. साल 1999 में तुर्की में सात से ज़्यादा की तीव्रता से आए दो भूकंप में क़रीब 20,000 लोग मारें गए थे.

संबंधित समाचार