सीरिया में दख़ल दिया तो 'भूकंप' आ जाएगा: असद

इमेज कॉपीरइट AFP

सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद ने आगाह करते हुए कहा है कि अगर पश्चिमी देशों ने उनके देश में दख़ल दिया तो भूकंप आ जाएगा.

ब्रितानी अख़ाबर संडे टेलीग्राफ़ को दिए एक साक्षात्कार में उन्होंने कहा कि किसी भी हस्तक्षेप से सीरिया एक और अफ़ग़ानिस्तान में बदल सकता है.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने सीरिया में दमन ख़त्म करने की बात दोहराई है. इसी के बाद सीरियाई राष्ट्रपति का बयान आया है.

इंटरव्यू में राष्ट्रपति असद ने कहा कि ये बात पक्की है कि पश्चिमी देश दबाव बढ़ाने की कोशिश करेंगे.

उनका कहना था, “अब इस क्षेत्र में सीरिया मुख्य केंद्र है. यहाँ पर दबाव डालने की कोशिश करोगे तो भूकंप आएगा ही. अगर सीरिया में कुछ समस्या होती है तो पूरे इलाक़े पर इसका असर पड़ेगा. अगर योजना सीरिया को बाँटने की है तो पूरा क्षेत्र ही बँट जाएगा. अगर आप एक और अफ़ग़ानिस्तान देखना चाहते हैं या दसियों अफ़ग़ानिस्तान देखना चाहते हैं.”

एक और अफ़ग़ानिस्तान

अख़बार के मुताबिक राष्ट्रपति असद ने माना कि प्रदर्शनों के शुरुआती दिनों में सुरक्षाकर्मियों से कई ग़लतियाँ हुईं लेकिन अब केवल आतंकवादियों को ही निशाना बनाया जा रहा है.

सीरियाई राष्ट्रपति का कहना है कि विरोध प्रदर्शनों को लेकर उनकी प्रतिक्रिया अन्य अरब नेताओं से भिन्न रही है.

उन्होंने कहा कि मुस्लिम ब्रदरहुड के ख़िलाफ़ 1950 के बाद से लड़ाई जारी है.

इस बीच कार्यकर्ताओं के मुताबिक शनिवार को होम्स में टैंकों से हमला हुआ और तीन लोग मारे गए.

इससे पहले शुक्रवार को कम से कम 40 लोग मारे गए थे. पिछले सात महीनों से जारी विरोध प्रदर्शनों में ये सबसे हिंसक दिनों में से एक था.

मार्च में असद प्रशासन को हटाने को लेकर शुरु हुए प्रदर्शनों में अब तक तीन हज़ार से ज़्यादा लोग मारे गए हैं.

संबंधित समाचार