ग्रीस में गठबंधन सरकार बनाने के प्रयास तेज़

जॉर्ज पापैंड्रेयू
Image caption ग्रीस के आम लोगों को सरकारी ख़र्च में कटौतियों पर काफ़ी आपत्तियाँ हैं

ग्रीस में प्रधानमंत्री जॉर्ज पापैंड्रेयू विश्वास मत जीतने के बाद राष्ट्रीय एकता की सरकार बनाने की चुनौती का सामना कर रहे हैं.

प्रधानमंत्री पापैंड्रेयू ने राष्ट्रपति कारोलोस पापोलियास से मुलाकात के बाद कहा है कि वे तत्काल विपक्षी दलों से गठबंधन की सरकार बनाने के लिए चर्चा शुरु करेंगे ताकि ग्रीस पर छाए क़र्ज़ के संकट से निपटा जा सके.

हाल में ग्रीस के क़र्ज़ संकट से पूरे यूरोज़ोन के अस्तित्व पर संकट के बादल मंडराने लगे थे. यूरोज़ोन की एक बैठक में तय हुआ था कि जिन निजी बैंकों ने ग्रीस को क़र्ज़ दिया है वे उसका आधा क़र्ज माफ़ कर देंगे.

पिछले महीने यूरोज़ोन की ओर से ग्रीस के लिए मंज़ूर किए गए पैकेज के तहत क़र्ज़ में डूबी ग्रीस की सरकार को 130 अरब यूरो मिलेंगे, निजी बैंक ग्रीस का आधा क़र्ज़ माफ़ करेंगे और सरकार अपने ख़र्च में कई तरह की कटौती करेगी.

ग़ौरतलब है कि ग्रीस की सड़कों पर आम जनता के बीच इन प्रस्तावित कटौतियों की ख़ासी आलोचना हो रही है.

प्रधानमंत्री जॉर्ज पापैंड्रेयू का कहना है कि गठबंधन सरकार का मुख्य मक़सद यूरोज़ोन के पैकेज की पुष्टि करना होगा.

उनका कहना था कि वह निर्णायक भूमिका में सरकार में योगदान देंगे, लेकिन ये स्पष्ट नहीं है कि क्या वे इस गठबंधन सरकार का नेतृत्व करेंगे या नहीं.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption ग्रीस की सड़कों पर सरकारी ख़र्च में कटौती के ख़िलाफ़ कई प्रदर्शन हुए हैं

मुख्य विपक्षी दल ने कहा है कि प्रधानमंत्री जॉर्ज पापैंड्रेयू को इस्तीफ़ा देना चाहिए.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि ग्रीस की राजनीति में अफ़रा-तफ़री मची हुई है जबकि वक़्त की मांग है कि देश में राजनीतिक स्थिरता हो.

'संसदीय चुनाव विनाशकारी'

विश्वास मत जीतने से पहले अपने भाषण में जॉर्ज पापैंड्रेयू ने कहा था कि राहत पैकेज की पुष्टि होने से पहले संसदीय चुनाव 'विनाशकारी' हो सकते हैं.

इससे पहले उन्होंने कर्ज़ संकट से जूझ रहे ग्रीस को बचाने के लिए जनमत-संग्रह की घोषणा कर अपने सहयोगी देशों को बड़ा झटका दिया था. इस बयान के बाद बाज़ारों में अफ़रा-तफ़री मच गई थी.

जॉर्ज पापैंड्रेयू ने कहा कि ग्रीस को यूरोपीय यूनियन के 'बेल-आउट' प्रस्ताव को स्वीकार करना ही होगा.

सदन में आंकड़ों से साबित हुआ कि पापैंड्रेयू कितने कमज़ोर थे. उनकी पार्टी को 300 में से 152 का बहुमत मिला.

यह मामला इतना संवेदनशील है कि विश्वास मत को ऐसे दिनों में रखा गया जब यूरोप और अमरीका के बाज़ार बंद हैं.

विपक्षी न्यू डेमोक्रेसी पार्टी के नेता एनटोनिस समारास ने प्रधानमंत्री के गठबंधन सरकार के प्रस्ताव को ख़ारिज कर दिया और तत्काल चुनावों के लिए अपनी मांगों को दोहराया.

इससे पहले प्रधानमंत्री जॉर्ज पापैंड्रेयू ने समय से पूर्व चुनाव कराए जाने की संभावनाओं को भी नकार दिया था. उनका कहना है कि चुनाव जल्दी कराए जाने पर यूरोज़ोन से मिलने वाली आर्थिक मदद ख़तरे में पड़ जाएगी.

संबंधित समाचार